राखी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

Rakhi Ka Business Kaise Kare : भारत में अलग अलग धर्मों और रिश्तों पर आधारित कई त्यौहार मनाये है, जिन में से एक है रक्षाबंधन। रक्षाबंधन भाई बहन के प्रेम का प्रतिक माना जाता है। उस दिन सभी बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है। यह त्यौहार पुरे भारत में सभी धर्म के लोग बड़े धामधूम के साथ मनाते है। इस दिन से पहले भारत के बाज़ारों में चारों और राखी ही राखी दिखाई पड़ती है। बाजार में आजकल कई अलग अलग तरह की राखी मिलती है। अगर आप भी सीजनल बिज़नेस करना चाहते हो तो राखी बनाने का बिज़नेस आपके लिए सही विकल्प हो सकता है।

Rakhi-Ka-Business-Kaise-Kare

राखी बनाने का बिजनेस एक ऐसा बिज़नेस है, जो आप कम लागत में घर से भी शुरू कर सकते हो और इस बिज़नेस में किसी भी प्रकार के मशीन की जरुरत नही पड़ती। इस बिज़नेस को आप किसी भी गांव और शहर में भी शुरू कर सकते हो। अगर आप भी राखी बनाने का बिज़नेस शुरू करना चाहते हो तो इस आर्टिकल को अवश्य पढ़े। इस आर्टिकल में हम राखी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें( Rakhi Ka Business Kaise Kare)?, इस बिज़नेस के लिए रॉ मटेरियल, लागत, मुनाफा , मार्केटिंग के बारे में आपको विस्तारपूर्वक माहिति प्रदान करेंगे।

राखी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? | Rakhi Ka Business Kaise Kare 

राखी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

राखी बनाने का बिज़नेस मौसमी बिज़नेस है। यह एक ऐसा बिज़नेस है जिस में आपको कम लागत की जरुरत पड़ती है। इस बिज़नेस को आप अकेले भी चला सकते हो। यह बिज़नेस आप दो तरीके से कर सकते हो अगर आपके पास क्रिएटिविटी माइंड है और आप राखी बनाने की कला जानते हो तो आप घर से ही इस बिज़नेस की शुरुआत कर सकते हो। अगर आप राखी बनाना नहीं जानते तो आप थोक विक्रेता के पास से या मार्केट से बनी बनाई राखियां खरीद कर भी बेच सकते हो।

मार्केट में राखी की मांग

इस बिज़नेस की सबसे अच्छी बात यही है रक्षा बंधन पुरे भारत में सभी धर्म के लोग पूरे उत्साह और आनंद के साथ मनाते है इसलिए बाजार में इस दिन तक राखी की मांग ज्यादा रहती है। आज कल बाजार में डिज़ाइनर चीजों का ज्यादा ट्रेंड चल रहा है। लोग अब सिंपल राखी के बदले डिज़ाइनर राखी को काफी पसंद कर रहे है। आप राखी के साथ साथ राखी के लिफाफे और गिफ्ट जैसी आइटम भी रख सकते है।

राखी के प्रकार

बाजार में आजकल राखी अलग अलग प्रकार और तरह तरह डिज़ाइन में मिलती है।

  • बच्चों के लिए कार्टून वाली राखी।
  • भगवान की मूर्तियों के साथ राखी।
  • भाभी राखी।
  • कंगन जैसी राखी।
  • सोने और चांदी की राखी।
  • लाइट वाली राखी।
  • संगीतमय राखी।
  • जरी राखी।
  • फ्लोरा राखी।

राखी बनाने के व्यापार के लिए मार्केट रिसर्च

किसी भी बिज़नेस को चलाने के लिए मार्केट रिसर्च करना अनिवार्य होता हैइस बिज़नेस में भी आपको मार्केट रिसर्च करना पड़ेगा जैसे की बाजार में अभी किस डिज़ाइन का ट्रेंड चला हुआ है, किस दाम में राखी मिल रही है, राखी की पैकिंग कैसे होती है आदि अच्छी मात्रा में स्टॉक के साथ त्योहार से 6 से 4 महीने पहले राखी तैयार करना शुरू कर देनी चाहिए।

राखी बनाने के व्यापार के लिए रॉ मैटेरियल

राखी बनाने के लिए जरुरी रॉ मटेरियल राखी के प्रकार के अनुसार रहता है। रॉ मटेरियल आपको थोक विक्रेता के पास से आसानी से मिल जायेगा। राखी बनाने के लिए आपको निम्नलिखित चीज़ों की जरुरत पड़ सकती है।

  • रंग बिरंगे रेशम के धागे
  • कई रंगों की ऊन
  • राखी को सजाने के लिए सामान्य क्राफ्ट आइटम
  • रंग बिरंगी डोरियाँ
  • सूती धागा
  • तरह तरह के स्टिकर
  • ज़री बॉर्डर्स
  • मोती और सितारे,
  • चमकीले धागे
  • स्पंज
  • राखी को सजाने के लिए कुछ सजावट की चीजें
  • सुई
  • छोटी कैंची
  • बड़ी कैंची
  • ग्लू

राखी बनाने का तरीका

राखी को तरह तरह की डिज़ाइन से बनाया जाता है। अगर आपको राखी बनानी नहीं आती तो आप यूट्यूब का सहारा ले सकते हो। यूट्यूब पर आपको इस विषय से जुड़ी कई विडियो मिल जाएगी।

रेशम की डोरी को पहले चोटी की तरह गूँथ लीजिए और इसके दोनों सिरों को बंद करने के लिए जरी का धागा इस पर सफाई से लपेट दीजिए। इस तरह राखी का बेस तैयार है। इस बेस पर स्पंज की पतली परत चिपकाएँ। स्पंज को उसी आकार में काटें जिस आकार में जड़ाऊ सितारे चिपकाना चाहते हैं। इसके ऊपर गोंद या फेवीकोल की सहायता से रंग-बिरंग कागज चिपकाएँ औरअब मनचाहे सितारे या मोती चिपका दें। इस तरह से आप राखी बना सकते हो।

राखी को कहाँ बेचें

बनाई हुई राखी को आप नजदीक के रिटेल शॉप, मॉल, बाजार में या बड़े होलसेलर को भी बेच सकते हो। आप अपनी प्रोडक्ट ऑनलाइन मार्केटप्लेस जैसे अमेज़न, फ्लिपकार्ट आदि से बेच सकते हैं। आप मेलों में भी राखी बेच सकते हैं।

राखी की पैकेजिंग 

अब राखी बनाने के बाद उसको आकर्षित दिखने के लिए उसकी आकर्षक पैकेजिंग भी आवश्यक होती हैं। इसकी पैकिंग के लिए आपको एक डिज़ाइनर कार्डबोर्ड की जरुरत पड़ेगी, जिस में आप राखी को लपेट कर रख सकते हो। इसके बाद ऊपर से पैकेट की मदद से इसकी पैकिंग कर दें। राखी के पैकिंग में किसी भी प्रकार के मशीन की जरुरत नही पड़ती।

राखी बनाने के व्यापार के लिए लागत

यह बिजनेस सिर्फ एक महिने के लिये होता है। इस व्यापार में बहुत ही कम लागत की जरुरत पड़ती है। अगर आप छोटे स्तर पर इस बिज़नेस को करना चाहते हो तो आपको जरुरी रॉ मटेरियल , पैकेजिंग और मार्केटिंग सभी के कुल खर्चे को मिलाकर 5 से 10 हजार रूपये की लागत लगती हैं। अगर आप बड़े स्तर पर इस बिज़नेस को शुरू करना चाहते हो तो आपको 50,000 से लेकर 1,00,000 रूपये तक की लागत लग सकती है।

राखी बनाने के व्यापार के लिए लोन

यह उधोग एक लघु उधोग श्रेणी में आता है। आपके पास यह बिजनेस शुरू करने के लिए इतने रुपये नही है तो आप बैंक से लोन भी ले सकते है। इन छोटे छोटे बिजनेस में सरकार भी सहायता करती है। मुद्रा योजना के तहत आप सरकार से 50,000 रुपये तक की मदद ले सकते हो।

राखी बनाने व्यापार में होने वाला मुनाफा

जैसा की यह एक सीजनल बिज़नेस है, तो उस में मुनाफा भी सिमित रहता है। रक्षाबंधन के दौरान तरह तरह की राखियों की बाजार में बहुत मांग रहती है यह आप पर निर्भर है की आप किस प्रकार की और डिज़ाइन की राखी बनाते हो। बाजार में आपको थोक विक्रेता के पास से स्टोन वाली राखी 30 रुपये दर्जन, डोरी वाली राखी 25 रुपये दर्जन, रुद्राक्ष वाली राखी 70 रुपये दर्जन और किसी भी भगवान की राखियां 80 रुपये दर्जन मिल जाएँगी, जबकि यही राखी रिटेल भाव में आप 50 से 150 रुपये तक बेच सकते हो।

थोक मार्केट की राखियों को रिटेल में बेचने पर 40-50 फीसदी का प्रॉफिट आप कमा सकते हो यानि की 10,000 रुपये इन्वेस्ट करके आप राखी की सीजन में 25 हजार रुपए से 30 हजार रुपए तक की कमाई कर सकते हो।

राखी बनाने के व्यापार के लिए मार्केटिंग

इस बिज़नेस में मार्केटिंग के लिए सबसे पहले आपको अपने आसपास के लोगों या फिर अपने ग्रुप में होम मेड डिज़ाइन राखी के बारे में बताना होगा। आप इसके लिए व्हाटप्पग्रुप का भी सहारा ले सकते हो। अगर आप इस बिज़नेस को बड़े स्तर पर करना चाहते हो तो आप समाचारपत्र में विज्ञापन दे सकते हो। राखी का पैमप्लेट्स बनाकर आसपास के एरिया में बाँट सकते हो।आप सोशल मीडिया पर भी अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कर सकते हो।

राखी बनाने के व्यापार में जोखिम

यह एक मौसमी व्यवसाय है, जो रक्षाबंधन तक ही सीमित रहता है। अगर हम इस बिज़नेस में जोखिम की बात करें तो राखी बिज़नेस में जोखिम बहुत कम रहता है क्योंकि इस बिज़नेस में आपको ज्यादा इन्वेस्टमेंट नहीं करना पड़ता। अगर कोई मटीरियल बच जाता है, तो आप दूसरी जगह पर उसका उपयोग भी कर सकते हो हालाँकि इस बिज़नेस में प्रॉफिट मार्जिन भी कम रहता है।

FAQ

राखी का बिज़नेस हमें कब शुरू करना चाहिए?

Ans. राखी का बिज़नेस रक्षाबंधन के 2 से 3 महीने पहले शुरू कर देना चाहिए।

राखी के बिज़नेस में कितना मुनाफा कमाया जा सकता है?

Ans. राखी के में बिज़नेस कुल लागत पर 40 से 50 फीसदी तक का मुनाफा कमाया जा सकता है।

राखी के बिजनेस में कितनी लागत लग सकती है।

Ans. अगर आप इस बिज़नेस को छोटे स्तर पर चालू करते हो तो आपको 5,000 से 10,000 तक की लागत और बड़े स्तर पर चालू करते हो तो आपको 50,000 से 1,00,000 रुपये तक की लागत लग सकती है।

राखी को आप कहाँ कहाँ बच सकते हो।

Ans: राखी को आप किसी दुकान के आसपास स्टॉल लगाकर या किसी मेले में स्टॉल लगाकर या फिर ऑनलाइन अमेज़न और फिल्पकार्ट जैसी वेबसाइट पर भी बेच सकते हो।

क्या राखी बनाने के बिज़नेस के लिए रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस जरूरत हो सकती है?

Ans. इस बिज़नेस के लिए किसी भी प्रकार के रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस की जरुरत नही पड़ेगी।

निष्कर्ष

राखी बनाने का व्यापार ऐसा व्यापार है, जिसकी रक्षा बंधन तक ज्यादा डिमांड रहती है। यह सीजनल व्यापार है, जो कम लागत में और बिना किसी मशीन से घर से ही शुरू किया जा सकता है। आज इस आर्टिकल में हमने आपको राखी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?( Rakhi Ka Business Kaise Kare) के से जुडी सभी प्रकार की माहिती शेयर की है। उम्मीद है आपको हमारे यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

अगर आपको आज का हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। इसके अलावा अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख से संबंधित कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हो। हम आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया का जवाब शीघ्र से शीघ्र देने का पूरा प्रयास करेंगे।

यह भी पढ़े

घर बैठे बिन्दी पैकिंग का काम कैसे शुरू करें?

ब्यूटी पार्लर बिजनेस कैसे शुरू करें?

ड्राई फ्रूट पैकिंग का बिजनेस कैसे शुरू करें?

नमकीन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

वर्क फ्रॉम होम बिजनेस आइडिया

Leave a Comment