ट्रैवल एजेंसी बिजनेस कैसे शुरू करें?

Travel Agency Business Plan in Hindi: आज हमारे देश में घूमने के लिए बहुत सी ऐसी जगह है, जहां पर बहुत अधिक संख्या में पर्यटक घूमने जाते हैं। देश की सबसे अधिक अर्थव्यवस्था पर्यटन के ऊपर ही टिकी हुई है। सिर्फ देश के लोग ही एक स्थान से दूसरे स्थान पर घूमने के लिए ही नहीं जाते, बल्कि विदेशों से भी लोग यहां पर घूमने के लिए आते हैं।

Travel Agency Business Plan in Hindi
Image: Travel Agency Business Plan in Hindi

इन सब को देखते हुए आज के समय मे हमारे देश में ट्रैवल एजेंसी का व्यापार शुरू करना बहुत अच्छा है। ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस के द्वारा कितनी कमाई की जा सकती है?, ट्रैवल एजेंसी के बिजनेस को किस प्रकार से शुरू किया जा सकता है? (Travel Agency Business Plan in Hindi) इस बिजनेस को शुरू करने के लिए कौन सा टूरिस्ट क्षेत्र सबसे ज्यादा सही रहता है? इन सभी चीजों के बारे में जानकारी आज आपको इस आर्टिकल के माध्यम से दे रहे हैं।

ट्रैवल एजेंसी बिजनेस कैसे शुरू करें? | Travel Agency Business Plan in Hindi

Table of Contents

ट्रैवल एजेंसी क्या है?

जब कोई व्यक्ति घूमने के लिए या अन्य किसी कार्य के लिए एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हैं तो सबसे पहले वो ट्रैवल एजेंसी के पास ही संपर्क करते है। इसके अलावा विदेशों से जो भी पर्यटक हमारे यहां घूमने के लिए आते हैं, वह भी ट्रैवल एजेंसी की मदद से ही घूमने के लिए जाते है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ट्रैवल एजेंसी वह होती है, जहां पर देश के ही नहीं बल्कि विदेश के भी लोगों को विभिन्न पर्यटन के स्थानों पर भ्रमण कराने के लिए जो गाड़ियों के द्वारा सेवा प्रदान की जाती है, उसी को टूरिज्म सेवा कह सकते हैं। यह कार्य ट्रेवल एजेंसी के द्वारा ही किया जाता है।

ट्रैवल एजेंसी व्यापार क्या है?

ट्रैवल एजेंसी एक खुदरा व्यापार है, जिसका मुख्य कार्य एक एजेंट की तरह काम करना है। ट्रैवल एजेंसी ग्राहकों को यात्रा संबंधित जरुरी सेवाएं जैसी कि जैसे एयरलाइन की टिकट, कार किराए पर लेना, क्रूज की टिकट, होटल बुकिंग का काम, रेल की टिकट, दर्शनीय स्थलों का भ्रमण और छुट्टियों का पैकेज जैसी सेवाएं प्रदान करती है।

ट्रैवल एजेंसी के व्यापार की बाजार में मांग

आप सभी लोग जानते हैं आज हमारे देश में टूर एंड ट्रेवल्स एजेंसी का काम कितना अधिक बढ़ गया है। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि हमारे देश में सबसे अधिक घूमने के लिए स्थान है, वहां पर साल भर बहुत अधिक संख्या में लोग घूमने के लिए जाते हैं। इसके लिए बड़ी-बड़ी कंपनियां भी है, जिनमें हजारों लाखों लोग काम करते हैं। इसलिए हर साल ट्रैवल एजेंसी की मांग बहुत अधिक बढ़ रही है।

आने वाले समय में भी इसकी बहुत अधिक डिमांड बढ़ती ही जाएगी। इस बिजनेस को 12 महीने किया जा सकता है। क्योंकि हमारे देश में अलग-अलग ऐसी-ऐसी जगह है, जिनमें 12 महीने तक पर्यटक लोग घूमने के लिए जाते है। इसीलिए अधिक संख्या में लोग टूर एंड ट्रेवल्स का काम करना पसंद करते हैं। इस बिजनेस को बहुत लंबे समय तक किया जा सकता है और बाजार में डिमांड भी बहुत ज्यादा है। इस बिजनेस को करना कोई नुकसान का काम भी नहीं होता है।

यह भी पढ़े: किसी कंपनी की एजेंसी कैसे ले?

ट्रैवल एजेंसी बिजनेस कैसे शुरू करें?

टूर एंड ट्रैवल एजेंसी का काम शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको एक बजट तैयार करना होगा। उसके बाद इसकी बहुत सारी प्रक्रिया होती हैं, जिनको आप को पूरा करना होगा। उसके बाद ही आप ट्रैवल एजेंसी का व्यापार कर सकते है। आइए जानते हैं ट्रैवल एजेंसी खोलने की प्रक्रिया (How to Start Travel Agency in India) के बारे में।

ट्रैवल एजेंसी खोलने के लिए बजट

ट्रैवल एजेंसी का व्यापार शुरू करने के लिए सबसे पहले पैसे की व्यवस्था करना जरूरी होता है। इस व्यापार में कम से कम 10 से 20 लाख रूपये का निवेश करना होता है। इसके अलावा आपके पास एक ऑफिस का होना भी जरूरी होता है। ऑफिस के माध्यम से ग्राहक आपसे मिल सकते हैं। इस व्यापार को आप घर से भी शुरू कर सकते हैं।

इसके अलावा अन्य खर्चे भी होते हैं जैसे कि ऑफिस के लिए जगह किराए पर लेना, बिजली का खर्चा स्टाफ का खर्चा इन सभी चीजों का एक अलग से बजट बनाना होगा। मोबाइल, लैपटॉप इस व्यापार को करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होते हैं। क्योंकि आजकल लोग अधिकतर संख्या में ऑनलाइन बुकिंग करते हैं।

ट्रेवल्स एजेंसी व्यापार के लिए जगह

टूर एंड ट्रेवल्स का व्यापार को शुरू करने के लिए आपको ऐसी जगह निर्धारित करनी होगी, जहां पर सबसे अधिक पर्यटन की संख्या में लोग आते हो। ऑफिस के लिए जगह एयरपोर्ट के आसपास या किसी बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन के आसपास खोलना होगा।

क्योंकि यातायात के साधनों के माध्यम से ही लोग आकर इन्हीं के आसपास टूर एंड ट्रेवल्स के ऑफिस को ढूंढते हैं और घूमने के लिए जगह निर्धारित करते हैं। इसीलिए आप भी इन जगहों में से किसी अच्छी जगह का चयन करके अपने ऑफिस को तथा व्यापार के लिए जगह देख सकते हैं।

ट्रैवल्स एजेंसी के व्यापार के लिए लोन की व्यवस्था

किसी भी व्यापार को शुरू करने के लिए सरकार के द्वारा लोन भी किया जाता है। अब यह लोन आप पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार से लोन लेना चाहते हैं। टूर एंड ट्रेवल्स के व्यापार में दो प्रकार से लोन ले सकते है। गाड़ियों के लिए अलग प्रकार से लोन दिया जा सकता है तथा इस व्यापार के लिए भी अलग से लोन ले सकते है। मार्किट में अलग-अलग फाइनेंस की कंपनियां हैं, जो गाड़ियों के लिए भी लोन देती है।

ट्रैवल एजेंसी के व्यापार के लिए अनुभव

ट्रैवल एजेंसी का व्यापार करने के लिए अनुभव भी बहुत जरूरी होता है। इसके लिए व्यक्ति किसी भी बड़ी ट्रैवल एजेंसी के यहां पर इस काम को सीख सकता है या वहां पर नौकरी भी कर सकता है, जिससे आपको नौकरी के बदले कुछ पैसे भी मिल सकते हैं।

नौकरी करने की आप के 2 फायदे हो जाएंगे। व्यक्ति को पैसा भी मिल जाएगा और अनुभव भी मिल जाएगा। बिना अनुभव के इस काम को करना बिल्कुल भी सही नहीं होगा।

ट्रैवल एजेंसी के लिए रजिस्ट्रेशन

ट्रैवल एजेंसी व्यापार को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको उसका ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इसके लिए आप मिनिस्ट्री ऑफ टूरिज्म डिपार्टमेंट ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। इसमें व्यापारी कोअपनी आईडी दर्ज करनी होगी। इसके अलावा अन्य जो भी जरूरी जानकारियां मांगते हैं, उन सभी को भरना होगा।

इस रजिस्ट्रेशन के बिना आप ट्रैवल एजेंसी का काम नहीं शुरू कर सकते है। इसके अलावा आप सरकार के द्वारा लागू जीएसटी नंबर भी ले सकते हैं, यह भी ट्रैवल एजेंसी के व्यापार के लिए बहुत जरूरी होता है।

ट्रैवल एजेंसी के व्यापार के प्रकार

1. ट्रैवल एजेंसी की फ्रेंचाइजी लेकर शुरुआत

किसी पर व्यापार को शुरू करने के लिए कोई भी व्यक्ति अधिकतम निवेश नहीं कर सकता है। इसके लिए ट्रैवल एजेंसी हमारे देश में बहुत अधिक है, जो बड़ी-बड़ी ट्रेवल एजेंसी है, वह अपनी फ्रेंचाइजी भी लोगों को देती हैं। जो व्यक्ति ट्रैवल एजेंसी का नया व्यापार शुरू करना चाहते हैं, उन कंपनियों से संपर्क करके फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।

यह सबके लिए बहुत लाभकारी हो सकता है। क्योंकि इसमें कंपनी का नाम बहुत ज्यादा फेमस होता है, इसीलिए अधिक संख्या में ग्राहक आपके पास आएंगे। नया ट्रैवल एजेंसी का व्यापार फ्रेंचाइजी लेकर शुरू करने के लिए मार्केटिंग करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। जैसे-जैसे आपको लगे कि आपका बिजनेस बढ़ रहा है तो आप अपना खुद का भी नए सिरे से व्यापार वापस से शुरू कर सकते हैं।

शुरुआत में फ्रेंचाइजी लेकर व्यापार करने में ज्यादा खर्चा नहीं होता है। अगर खुद की कंपनी खोलते है तो उसके लिए आपको बहुत से खर्चे करने होते हैं, जो आपके बजट से ऊपर भी हो सकते हैं। इसीलिए शुरुआत में फ्रेंचाइजी के साथ अगर फिर से शुरू करो तो आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा।

2. दूसरी किसी बड़ी कंपनी के साथ टाइ-अप करके

ट्रैवल एजेंसी का व्यापार आप बहुत सी ऐसी कंपनियां हैं जैसे मेकमायट्रिप, yatra.com, मुसाफिर आदि। इन कंपनियों के माध्यम से आप टाइअप कर सकते हैं और व्यापार को शुरू कर सकते हैं। इन कंपनियों के साथ आपको एक ट्रैवल एजेंट के रूप में काम करना होगा। हमारे देश में कुछ ऐसी कंपनियां भी हैं, जो टाइअप के दौरान कुछ मनी सिक्योरिटी के रूप में भी लेती है।

यह टाइअप की प्रक्रिया के दौरान सारा पैसा तो आपका होगा, लेकिन इसके अलावा अन्य खर्चे टाइअप वाली कंपनी के होंगे। अन्य खर्चों में पर्यटन वाले व्यक्ति के लिए घूमने, रहने, खाने की व्यवस्था, उनको एक गाइड की नियुक्ति यह सब काम टाइअप वाली कंपनी के ही द्वारा होता है। इन सभी काम के लिए आपको जिस कंपनी के साथ टाईअप किया है, उसके द्वारा आपको कमीशन के रूप में पैसा मिलता है।

3. खुद का व्यापार शुरू करने पर

खुद का ट्रैवल एजेंसी का काम करने के लिए बहुत अधिक बजट लग जाता है। इसके लिए आपको गाड़ियों के अलावा अन्य खर्चे भी बहुत हो जाते हैं, जिनमें बजट बहुत अधिक लगता है, जैसे पर्यटको के लिए होटल की व्यवस्था, उनको लाने ले जाने के लिए गाड़ी की व्यवस्था तथा किसी भी अच्छे हिल स्टेशन पर एक पूरे पैकेज की व्यवस्था को निर्धारित करना होगा।

हिल स्टेशनों पर पर्यटन को घुमाने के लिए कश्मीर, शिमला, मनाली जैसे हिल स्टेशन पर घूमने लेकर जा रहे है, वहां पर भी होटल, गाइड, उनके ठहरने के लिए जगह घुमाने के लिए गाड़ी आदि सभी चीजों के लिए छोटे-छोटे बहुत बड़े रूप में खर्चे हो जाते हैं। इन सभी के लिए एक सही योजना बनानी होगी। खुद के ट्रैवल एजेंसी का व्यापार शुरू करने के लिए मार्केटिंग की सबसे अधिक जरूरत पड़ती है। इस प्रक्रिया को आप ऑनलाइन ऑफलाइन दोनों प्रकार से कर सकते हैं। बिना मार्केटिंग के इस व्यापार में मुनाफा भी प्राप्त नहीं हो सकता है।

ट्रैवल एजेंसी के लिए बैंक अकाउंट

ट्रैवल एजेंसी का व्यापार शुरू करने के लिए बैंक अकाउंट की भी जरूरत होती है। यह जरूरी इसलिए होता है क्योंकि आजकल सभी लोग ऑनलाइन पेमेंट करते हैं, इसीलिए आपको अपने ऑफिस में ऑनलाइन पेमेंट के साधन जैसे गूगल पे, फोन पे, यू पी आई या फिर डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड के स्वैप की मशीन भी रखनी होगी।

इन सभी के लिए आपकी कंपनी के नाम का एक बैंक अकाउंट होना जरूरी है, जिसमें सभी पैसे का आदान-प्रदान बहुत अच्छे से किया जा सके। वह आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। आपकी कंपनी में काम कर रहे कर्मचारी, ड्राइवर सभी को भी पैसे देने में सुविधा रहेगी।

ट्रैवल एजेंसी का काम शुरू करने के लिए गाड़ियों की जरूरत

शुरुआत में ट्रेवल एजेंसी का व्यापार चालू करने के लिए एक या दो गाड़ी से व्यापार को शुरू किया जा सकता है। उसके बाद जैसे-जैसे आप का व्यापार धीरे-धीरे बढ़ने लगेगा तो और अधिक गाड़ियों की व्यवस्था करके व्यापार को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा आप छोटी-छोटी जो ट्रैवल एजेंसी  या फिर रेंट पर भी अपने काम के लिए गाड़ियां बुक कर सकते है, जिनमें भी आपको कमीशन के रूप में सही पैसा मिल जाता है।

अगर सीजन के हिसाब से ऑफिस में अधिक ग्राहक गाड़ियों की बुकिंग के लिए आते हैं तो आप किसी भी अन्य बड़ी कंपनी से संपर्क करके गाड़ियों की व्यवस्था कर सकते हैं। ताकि किसी भी ग्राहक को आपके ऑफिस से निराश ना लौटना पड़े।

यह भी पढ़े: फ्लेक्स प्रिंटिंग बिजनेस कैसे शुरू करें?

ट्रैवल एजेंसी व्यापार के लिए मार्केटिंग

टूर एंड ट्रैवल एजेंसी के व्यापार के लिए तीन प्रकार से मार्केटिंग की जा सकती हैं, जो इस व्यापार के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होती है। क्योंकि बिना मार्केटिंग के किसी भी बिजनेस को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है।

ऑफलाइन मार्केटिंग

टूर एंड ट्रैवल एजेंसी व्यापार में ऑफलाइन मार्केटिंग करने का सही तरीका यह होता है कि जो भी ग्राहक आपकी कंपनी के द्वारा जुड़ते हैं, उन सभी को आपको सही पैकेज में व्यवस्था देनी होती है। जिस जगह अपने टूरिस्ट को घुमा रहे हो, उनको किस तरीके से अटेंड कर रहे हो। इससे आपको अच्छा रिस्पांस मिलता है।

ग्राहक के द्वारा आपके व्यापार की सही व्यवस्था की जानकारी व अन्य चार लोगों में भी वह ग्राहक देता है, जिससे लोग अधिक संख्या में ट्रैवल एजेंसी में संपर्क कर सकते हैं और घूमने के लिए जा सकते हैं। इसके अलावा पम्प्लेट्स या गाड़ी बचपन के मालिकों से भी आपको संपर्क करके रखना होगा क्योंकि जरूरत पड़ने पर आप लोगों की गाड़ियां रेंट पर ले सकते हैं। उनको कमीशन का लालच देकर अपने व्यापार को बढ़ा सकते है।

ऑनलाइन मार्केटिंग

टूर एंड ट्रेवल्स के लिए सबसे अच्छा ऑप्शन ऑनलाइन मार्केटिंग का होता है। आप अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर इसका ऑनलाइन प्रचार कर सकते हैं। आज हमारे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी जो भी लोग घूमने के लिए आते हैं, वह अपने घूमने की सभी योजनाएं पहले से ही निर्धारित कर लेते हैं। इसके लिए वह लोग सबसे पहले टूर एंड ट्रेवल्स की सेवाओं को ऑनलाइन बुक कर देते हैं।

बाहर से आने वाले लोगों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो, इसके लिए टूर एंड ट्रेवल्स की बुकिंग के द्वारा उनको सीधे एयरपोर्ट से लेकर होटल तक छोड़ने तक तथा उनको हमारे देश के प्रमुख स्थानों पर जहां वह चाहे उन जगहों पर घुमाने की व्यवस्था भी ट्रेवल्स की ही होती है। इसके अलावा देश के भी बहुत से लोग छुट्टियां मनाने के लिए अच्छी-अच्छी जगह पर घूमने के लिए जाते हैं तो वह बड़ी-बड़ी टूरिस्ट कंपनियों में अपनी बुकिंग पहले से ही ऑनलाइन बुक कर देते हैं।

अच्छे-अच्छे पैकेज के द्वारा मार्केटिंग

शुरुआत में ग्राहकों के लिए कुछ पैकेज भी निकाल सकते हैं, जिसके द्वारा अधिक ग्राहक आकर्षित होकर ट्रैवल एजेंसी पर बुकिंग के लिए आएंगे। उसके लिए कुछ विशेष ऑफरस का भी ध्यान रखें। इसके अलावा समय समय पर अलग प्रकार के पैकेज निकालते रहे। समय के साथ अच्छे पैकेज व आकर्षक गिफ्ट ऑफर निकालने पर आपको बहुत फायदा होगा, क्योंकि लोग अधिक संख्या में आप से बुकिंग करवा सकते हैं।

ट्रेवल्स एजेंसी के व्यापार के लिए अनुभवी ड्राइवरों की नियुक्ति

ट्रेवल्स का जब व्यापार कर रहे हैं तो उसके लिए गाड़ियों के अनुसार कुछ अनुभवी ड्राइवरों की नियुक्ति भी करनी होती है। उनको गाड़ी चलाने का अच्छा अनुभव तथा जो भी घूमने की जगह है, उन सभी जगहों के बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए।

इसके अलावा उनके पास लाइसेंस का होना भी जरूरी होता है, क्योंकि जब लंबे सफर गाड़ी लेकर जाते हैं तो पुलिस कार्रवाई होती है। उसमें चेकिंग के दौरान ड्राइवर के पास लाइसेंस का पाया जाना जरूरी है नहीं तो कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है।

ट्रेवल्स एजेंसी के व्यापार से होने वाला मुनाफा

ट्रेवल्स के व्यापार करने में सबसे अधिक मुनाफा गर्मियों और सर्दियों की छुट्टियों के समय में होता है। क्योंकि अक्सर बच्चों की छुट्टियां इन्हीं दिनों में आती है तो लोग घूमने के लिए अच्छी-अच्छी जगह पर अपने बच्चों के साथ में खुशियां मनाने जाते हैं। अगर बिजनेस की शुरुआत ठंड वाली जगहों पर करते हैं तो वहां पर लाखों रुपए की कमाई हो सकती है।

इसके अलावा आपका प्रॉफिट मार्केटिंग के तरीके तथा कस्टमर के फीडबैक पर निर्भर करता है। मार्केटिंग के जरिए भी अच्छी कमाई हो सकती है। क्योंकि मार्केटिंग सही तरह से करने के लिए लोगों को अच्छे डिस्काउंट व आकर्षक ऑफर देने पर अधिक संख्या में कस्टमर आपकी कंपनी से जुड़ेंगे और इससे मुनाफा भी अच्छा प्राप्त होगा।

FAQ

टूर एंड ट्रेवल्स क्या है?

टूर एंड ट्रेवल्स के द्वारा बाहर से आने वाले व्यक्तियों को घुमाने का कार्य किया जाता है।

टूर एंड ट्रेवल्स का व्यापार कितनी लागत से शुरू किया जा सकता है?

शुरुआत 10 से 15 लाख रुपए से कर सकते हो।

टूर एंड ट्रेवल्स के व्यापार को खोलने के लिए जरूरी सामान क्या होते हैं?

ऑफिस, कंप्यूटर, मोबाइल, गाड़ियां आदि।

क्या ट्रेवल्स के व्यापार के लिए लाइसेंस रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया भी जरूरी होती है?

जी हां।

टूर एंड ट्रेवल्स के व्यापार को करके कितना मुनाफा मिल सकता है?

मुनाफा आपके व्यापार करने के तरीके पर निर्भर करता है।

टूर एंड ट्रेवल्स का व्यापार किस प्रकार किया जाता है?

इस प्रक्रिया के लिए आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें।

निष्कर्ष

आज हमारे देश में बहुत अधिक धार्मिक स्थान और पर्यटन की अच्छी जगह मौजूद है, जहां पर साल भर में लाखों पर्यटक देश के ही नहीं बल्कि विदेशों से भी घूमने आते है। आज के समय में टूर एंड ट्रेवल्स का काम करना बहुत फायदेमंद व्यापार है। इस व्यापार के आज आप बिजनेस करके देश दुनिया की सैर भी कर सकते हैं।

आशा करते हैं आपको टूर एंड ट्रेवल्स का व्यापार करने का आईडिया (Travel Agency Business Plan in Hindi) बहुत पसंद आया होगा। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

किराना स्टोर का बिजनेस कैसे शुरू करें?

आइसक्रीम बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

चाय पत्ती का बिजनेस कैसे शुरू करें?

पेपर बैग बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

Leave a Comment