आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें? (प्रक्रिया, निवेश, मुनाफा)

Atta Chakki Business in Hindi: आप सब तो जानते ही हैं कि आज के समय में खाना-पीना लोगों की जरूरत है, बिना खाने-पीने के लोग एक पल भी नहीं रह सकते हैं। पहले के समय में गेहूं, चावल, दाल इत्यादि जैसी चीजों को पत्थर से बनी हुई चक्की के माध्यम से पीसा करते थे।

परंतु आज के समय में टेक्नोलॉजी इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि इन सभी चीजों को पीसने के लिए मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है, जो कि लोगों के कार्य को काफी ज्यादा सुविधाजनक बना देते हैं।

आज के समय में आटा चक्की का बिजनेस काफी तेजी से बढ़ते जा रहा है। यदि आप भी आटा चक्की के बिजनेस की शुरुआत करना चाहते हैं और आप इस बिजनेस से जुड़े हुए सभी प्रकार की जानकारियों को जानना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल के अंत तक जरूर बने रहे।

Atta Chakki Business in Hindi
Image: Atta Chakki Business in Hindi

क्योंकि आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के अंतर्गत आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें? (flour mill in hindi), इसके बारे में जानकारी देंगे तो चले बिना समय गवाएं इस विषय के बारे में विस्तार से जानते हैं।

आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें? (प्रक्रिया, निवेश, मुनाफा) | Atta Chakki Business in Hindi

Table of Contents

आटा चक्की क्या है?

वैसे तो कोई नहीं होगा, जो आटा चक्की के बारे में नहीं जानता होगा। फिर भी जो शहर में लोग रहते हैं, उन्हे शायद ही आटा मिल जाने की जरूरत पड़ती होगी। क्योंकि शहरों में आटा, मसाले, मैदा, बेसन, सूजी इत्यादि सभी पैकेट में पैक बाजार में सीधे बिकते हैं।

लेकिन गांव में ज्यादातर लोग गेहूं, चावल, चना, मसाले इत्यादि सब कुछ पिसाकर खाते हैं। इस तरीके से जहां पर गेहूं, दाल, चावल इत्यादि पाया जाता है, उसी जगह को आटा चक्की या फ्लोर मिर कहते हैं।

आटा चक्की का व्यापार क्यों करना चाहिए?

जाहिर सी बात है कि कोई भी व्यक्ति चाहे छोटा व्यापार शुरू कर रहा है या बड़ा व्यापार व्यापार को शुरू करने से पहले उस व्यापार का स्कोप जरूर देखता है। किसी भी व्यापार को शुरू करने से पहले उस व्यक्ति के मन में यह प्रश्न जरूर उठता है कि यह व्यापार उसका लंबे समय तक चलेगा या नहीं।

इन सभी सवालों का जवाब वह व्यक्ति व्यापार शुरू करने के लिए उपलब्ध अवसर और संभावनाओं के जरिए जान पाता है। हर व्यक्ति इस तरह का ही व्यापार शुरू करना चाहता है, जो लंबे समय तक चले। एक या 2 सालों में बंद हो जाए ऐसे व्यापार से लंबे समय तक कमाई नहीं की जा सकती।

भोजन मनुष्य की प्राथमिक आवश्यक आवश्यकता है। मनुष्य हर चीज के बिना रह सकता है लेकिन भोजन के बिना रह नहीं सकता। आमतौर पर रोटी एक ऐसा व्यंजन है, जो लगभग सभी वर्ग के लोगों के व्यंजन में शामिल है और रोटी आटे से बनाया जाता है। इससे आप समझ सकते हैं कि आटे की मांग बाजार में कितनी ज्यादा है और आटा सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है। इसमें ग्लूटेन नामक प्रोटीन होता है, जिसके कारण आटे में यह लचीलापन ला देता है।

आटे की मांग बाजार में हमेशा ही रहती है, इसमें कोई शक नहीं है। क्योंकि ज्यादातर व्यंजन में आटे का इस्तेमाल होता है। फिर चाहे पूरी हो, रोटी हो, आलू परोठा हो। यहां तक कि तरह-तरह की बिस्किट बनाने के लिए भी आटे का इस्तेमाल होता है। आटे का प्रयोग बेकरी के तरह तरह के प्रोडक्ट जैसे ब्रेड, बिस्कुट, केक आदि को बनाने में भी किया जाता है।

केवल भारत के ही व्यंजन में नहीं बल्कि अन्य देशों के व्यंजन में भी आटा शामिल है जैसे पिज्जा बेस, बर्गर के लिए बन्स, डोनट्स, नूडल्स, दलिया, रस आदि। इस तरह आटे की खपत हर एक घर में है, जो व्यक्ति अमीर है, उसके भी घर में आटे का इस्तेमाल होता है और जो व्यक्ति गरीब है उसके घर में भी आटे की खपत होती है। जिस कारण आटे की मांग बाजार में हमेशा ही बनी रहती है और शायद बिना आटे के ज्यादातर व्यंजन तैयार ही ना किया जा सके।

इस प्रकार आप समझ सकते हैं कि आटा का व्यापार करना कितना फायदेमंद हो सकता है। यहां तक कि इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस व्यवसाय को बहुत कम निवेश के साथ कहीं भी शुरू किया जा सकता है और इसमें ज्यादा मार्केटिंग की भी आवश्यकता नहीं है। केवल अपने ही क्षेत्र में काफी ज्यादा कमाई आटा मिल से किया जा सकता है।

आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें?

आप सब तो जानते ही हैं कि किसी भी बिजनेस की शुरुआत करने से पहले उससे जुड़ी हुई सभी प्रकार की जानकारी को प्राप्त कर लेना अति आवश्यक होता है। ठीक इसी तरह से आटा चक्की का बिजनेस भी शुरू करने से पहले इससे जुड़ी हुई सभी प्रकार की जानकारी को प्राप्त करना बिजनेस को सफल बनाने के लिए अति आवश्यक होता है।

आटा चक्की का बिजनेस शुरू करने के लिए केवल एक ही चीज की जरूरत पड़ती है और वह है आटा पीसने वाली मशीन। आटा पीसने वाली मशीन का मतलब यह नहीं है कि इस मशीन में केवल आटा ही पीसा जाएगा बल्कि आप इस मशीन के माध्यम से मसाला, धनिया, हल्दी, चावल इत्यादि चीजें भी पीस सकते हैं।

आप चाहे तो इस बिजनेस को अपने घर से या फिर किसी दुकान के माध्यम से भी खोल सकते हैं। इस बिजनेस को करने के लिए चलिए इससे जुड़ी हुई बाकी जानकारियों के बारे में जानते हैं।

आटा चक्की का प्रकार

 वैसे तो आटा चक्की बहुत प्रकार का होता है। परंतु चलिए इन्हीं में से कुछ प्रकार के बारे में हम विस्तार से जानते हैं।

स्टोनलेस आटा चक्की मशीन

आटा चक्की का मशीन एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन होता है, जिसका इस्तेमाल करने के लिए इलेक्ट्रिसिटी की जरूरत पड़ती है। स्टोनलेस आटा चक्की मशीन का इस्तेमाल आप घर में भी कर सकते हैं। इस मशीन के अंतर्गत एक छोटा हॉपर होता है, जिसके अंतर्गत अनाज को डालकर बारीक रूप में पीसा जाता है।

स्टोन फ्लोर मिल

स्टोन फ्लोर मिल मशीन का इस्तेमाल आमतौर पर व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है। इस मशीन के अंतर्गत बेडस्टोन के ऊपर एक रन स्टोन होता है। रनस्टोन बेडस्टोन के ऊपर घूम कर अनाज को पीसने का कार्य करता है।

पूरी तरह से स्वचालित आटा चक्की

इस प्रकार का आटा चक्की पूरी तरीके से स्वचालित होता है। कहने का मतलब यह है कि यह पूरी तरह से अपने दम पर कार्य करता है। इसके अंतर्गत अनाज पीसने के लिए केवल हॉपर में डालना पड़ता है, उसके बाद यह मशीन ताजा अनाज पीस कर दे देता है।

आटा चक्की बिज़नेस के प्रकार

आटा चक्की का बिजनेस यदि आप शुरू करना चाहते हैं तो इससे पहले जान लेने की जरूरत है कि यह बिजनेस आप दो तरीके से शुरू कर सकते हैं। पहले प्रकार में आप कम पूंजी और कम जगह की आवश्यकता इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं, वहीं दूसरी तरह में आपको सेटअप लगाने की जरूरत पड़ेगी, जिसमें आपको ज्यादा जगह के साथ ही साथ ज्यादा पूंजी की भी जरूरत पड़ेगी।

जो पहला तरीका है, वह बेसिक मिल है। इसमें बस आपको आटा पीसने की मशीन को एक दुकान में स्थापित करना होता है। उसके बाद ग्राहक खुद अपने घर से कच्चा माल यानी कि गेहूं या और भी चीजें जो पिसवाना चाहते है, उसे आपके दुकान पर लेकर आता है और बहुत कम समय में आप उसके कच्चे माल को पीसकर दे देते हैं।

इस तरह इस बिजनेस में आपको स्टाफ की भी जरूरत नहीं पड़ती और पूंजी भी कम लगता है। छोटे से जगह में आप इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं।

दूसरा जो तरीका है, वह फ्लोर मिल। इसमें आपको थोड़ी ज्यादा पूंजी की जरूरत पड़ती है। क्योंकि इसमें आप खुद का एक कंपनी शुरू करते हैं जिसके स्टार्टअप के लिए आपको बड़ी जगह कुछ स्टाफ और अच्छी खासी पूंजी की जरूरत पड़ती है।

इसमें ग्राहक खुद कच्चा माल नहीं लाता बल्कि आप खुद बाजार से अच्छी गुणवत्ता का अनाज खरीद कर लाते हैं, उसे साफ करके उसकी पिसाई करते हैं और फिर अपने ब्रांड के पैकेट में पैकेजिंग करके उसे बेचते हैं। आटे को आप सीधे किराने की दुकानों में बेच सकते हैं।

यह भी पढ़े: 101+ कम पूँजी में अधिक मुनाफा देने वाले बिजनेस आइडियाज

आटा चक्की बिजनेस का मार्केट रिसर्च

आटा चक्की के बिजनेस की  शुरुआत करने से पहले इससे जुड़ी हुई हर संभव प्रकार की मार्केट रिसर्च जरूर करें, क्योंकि बिजनेस की सफलता एक हद तक मार्केट रिसर्च से जुड़ी हुई होती है।

मार्केट रिसर्च कहने का मतलब यह है कि आप अपने बिजनेस की शुरुआत किस जगह से कर सकते हैं?, आपको इस बिजनेस को करने के लिए कितनी लागत लगेगी?, आप इस बिजनेस के अंतर्गत कौन-कौन सी मशीनों का इस्तेमाल करेंगे?, आपके लोकल मार्केट में आटा चक्की की रिक्वायरमेंट क्या है?, आप जिस जगह पर अपनी दुकान खोलेंगे उस जगह पर पहले से कोई और दुकान मौजूद है या नहीं? इत्यादि और भी बहुत से महत्वपूर्ण बातें होती हैं, जिनका विशेष रूप से ध्यान देना बिजनेस को सफल बनाने में काफी ज्यादा योगदान दे सकता है।

आटा चक्की के बिजनेस में लगने वाली मशीन की कीमत और कहां से खरीदें?

आटा चक्की के बिजनेस की शुरुआत करने के लिए केवल आटा पीसने वाली मशीन की ही जरूरत पड़ती है। यह मशीन अलग-अलग प्रकार के आते हैं, जिनका इस्तेमाल आज के समय में लोग अपने घरों में भी करते हैं और इन मशीनों के माध्यम से बिजनेस भी करते हैं।

आज के समय में जितना भी आटा चक्की मौजूद है वह सब बिजली, पेट्रोल एवं डीजल इत्यादि चीजों के माध्यम से कार्य करते हैं। यदि आप भी आटा चक्की का मशीन खरीदना चाहते हैं तो आपको इन सब सुविधाओं का विशेष ध्यान रखना होगा।

आटा चक्की का मशीन आज के समय में लगभग 30 से 40 हजार रुपए के अंतर्गत में ही मिल जाती है अर्थात फ्लोर मिल मशीन प्राइस इतने तक हो सकती है। आप आटा चक्की के मशीन (Aata pisne ki chakki) को किसी भी मार्केट में जाकर आसानी के साथ खरीद सकते हैं और यदि आप चाहे तो किसी आटा चक्की के बिजनेस करने वाले व्यक्ति की मदद भी ले सकते हैं। क्योंकि उन्हें इन सब चीजों के बारे में पहले से ही जानकारी होती है।

आटा चक्की व्यापार के लिए कच्चा माल

आटा चक्की के व्यापार में कच्चे माल की आवश्यकता हो भी सकती है और नहीं भी हो सकती है। कहने का अर्थ है कि यदि आप आटा चक्की के व्यवसाय को छोटे स्तर से शुरू कर रहे हैं तो आपको कच्चे माल की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसमें अगर आपको केवल आटा पीसने वाली मशीन की जरूरत पड़ेगी।

उसके बाद कोई भी ग्राहक खुद दुकान से गेहूं या अन्य खड्डे मसाले खरीद कर लाएगा और आपके पास आकर पिसवा लेगा। यदि आप बड़े स्तर से इस व्यवसाय को शुरू कर रहे हैं, जिसमें आप खुद का ब्रांड स्थापित करना चाहते हैं। ऐसे में आपको कच्चे माल खरीदने की जरूरत पड़ेगी। क्योंकि इसमें आप खुद ही कच्चे माल को पीसकर पैकेट में पैक करके बाजार में बेचते हैं।

प्रश्न रहा कि कच्चा माल कहां से खरीदा जाए तो उदाहरण के लिए यदि आप गेहूं की खरीदारी करना चाहते हैं तो गेहूं भारत के पंजाब, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में प्रचुर मात्रा में उत्पादन किया जाता है। इन राज्यों से सीधे गेहूं को मंगवाते हैं तो आपको काफी सस्ता दाम में क्यों मिल जाता है।

इसी प्रकार अन्य मसाले भी जिस राज्य में ज्यादा मात्रा में उत्पादन होता है, वहां से मंगवाएंगे तो आपको वह सस्ते में पड़ेगा। इसके अतिरिक्त आप चाहे तो अपने ही शहर से आप इन्हें मंगवा सकते हैं। लेकिन इसके उत्पादन के समय यदि आप मंगवाते हैं तो थोड़ा ज्यादा सस्ता पड़ेगा।

आटा चक्की के बिजनेस का प्रोसेस

सभी बिजनेस को करने का अपना ही अलग-अलग प्रोसेस होता है। ठीक इसी तरह से आटा चक्की के बिजनेस को भी करने का एक अपना ही एक अलग प्रोसेस होता है। किसी भी बिजनेस को प्रोसेस के मुताबिक करने से उसे सफल बनाने में काफी ज्यादा मदद मिलती है।

इसीलिए बिजनेस की शुरुआत करने से पहले उससे जुड़ी हुई सभी प्रोसेस के बारे में अच्छे से जानकारी जरूर प्राप्त करें। प्रोसेस के कहने का मतलब यह है कि आप अपने बिजनेस की शुरुआत किस तरह से कर रहे हैं?, आप अपने बिजनेस को सफल बनाने के लिए कैसे-कैसे तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं?, आप अपने बिजनेस को लोगों के समक्ष किस तरह से प्रदर्शित कर रहे हैं? और किस तरह से आप अपने बिजनेस को सफल बनाने की कोशिश कर रहे हैं इत्यादि और भी महत्वपूर्ण प्रोसेस सम्मिलित होती हैं, जिनका विशेष रुप से ध्यान देना अति आवश्यक होता है।

आटा बनाने की प्रक्रिया

वैसे तो गेहूं से आटा बनाने की प्रक्रिया काफी आसान है। क्योंकि मशीन की सहायता से आप बहुत कम समय में ही गेहूं को पीसकर आटा बना लेते हैं। लेकिन ग्राहक को क्वालिटी वाला आटा मिले इसके लिए आपको थोड़ी बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। बाजार से जब आप गेहूं खरीदकर लाते हैं तो गेहूं में काफी ज्यादा गंदगी होती है। कंकड-पत्थर होता है।

ऐसे में आपको गेहूं को सबसे पहले धोना पड़ेगा। ऐसे में आपको सबसे पहले गेहूं को धोना पड़ेगा उसके बाद उसे धूप में सुखाना पड़ेगा। उसके बाद गेहूं से कंकर पत्थर को अलग करके छांटना पड़ेगा।

उसके बाद गेहूं को आटा चक्की वाले मशीन में ऊपर जगह होता है, वहां पर डालना होगा। जिसके बाद गेहूं नीचे से पीस कर आटे के रूप में बाहर निकल आएगा। उसके बाद पिसे हुए आटा को झन्ने में डाला जाता है, जहां आटे में से चोकर अलग हो जाते हैं, जिसके बाद  खाने लायक आटा तैयार हो जाता है।

आटा चक्की के बिजनेस के लिए लोकेशन

किसी भी बिजनेस की सफलता उसकी लोकेशन पर भी निर्भर करती है, इसीलिए बिजनेस की शुरुआत करने से पहले एक बेहतर लोकेशन का चयन करना बहुत ही जरूरी होता है।

ठीक इसी तरह से आटा चक्की के बिजनेस को भी करने के लिए एक बेहतर लोकेशन का चयन करना अति आवश्यक होता है। इस बिजनेस को करने के लिए ज्यादा बड़े जगह की आवश्यकता नहीं होती है, आप इस बिजनेस की शुरुआत किसी छोटे से जगा के माध्यम से भी कर सकते हैं।

आप चाहे तो इस बिजनेस की शुरुआत अपने घर से भी कर सकते है या फिर आप किस दुकान के माध्यम से भी इस बिजनेस के शुरूआत कर सकते हैं। परंतु आपको इस बात का विशेष ध्यान देना होगा कि आप जिस जगह पर अपने बिजनेस की शुरुआत कर रहे हैं, उस जगह पर पहले से कोई और दुकान मौजूद ना हो और आप इस बिजनेस की शुरुआत किसी भीड़भाड़ वाले इलाके से करें ताकि आपके बिजनेस की पब्लिसिटी ज्यादा बेहतर तरीके से हो सके।

आप इस बिजनेस की शुरुआती यदि किसी ग्रामीण क्षेत्र से करते हैं तो आपको इस बिजनेस के अंतर्गत और भी ज्यादा मुनाफा हो सकता है। क्योंकि आज के समय में शहर के अंतर्गत ऐसी बहुत सारी आटा चक्की की दुकानें मौजूद है, परंतु ग्रामीण क्षेत्र में ऐसी बहुत कम दुकानें ही मौजूद होती हैं, इसीलिए ऐसी जगह पर इस बिजनेस का ज्यादा सफल होने के चांसेस होता हैं।

आटा चक्की के बिजनेस के लिए लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन (Atta Chakki Registration)

किसी भी बिजनेस को कानूनी तौर पर सुरक्षित रूप से करने के लिए लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता पड़ती है। ठीक इसी तरह से आटा चक्की के बिजनेस को भी कानूनी रूप से करने के लिए कुछ रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस की आवश्यकता पड़ती है।

यदि आप इस बिजनेस की शुरुआत किसी छोटे स्तर से कर रहे हैं तो आपको शुरुआती दौर पर आटा चक्की का लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन करवाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। परंतु फिर भी यदि आप इस बिजनेस की शुरुआत कर रहे हैं तो इसकी जानकारी लोकल अथॉरिटी को जरूर दें। क्योंकि यह आपके बिजनेस की सुरक्षा के लिए ही होता है।

आपको इस बिजनेस को करने के लिए कुछ लाइसेंस की भी आवश्यकता पड़ेगी जैसे कि फूड लाइसेंस, जीएसटी, ट्रेड लाइसेंस और बिजनेस का रजिस्ट्रेशन। इन सभी लाइसेंस को प्राप्त करने के बाद आप निश्चित रूप से कानूनी तौर पर अपने बिजनेस की शुरुआत कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: 51+ कम पूँजी में शुरू होने वाले बिज़नेस आइडियाज

आटा चक्की के बिजनेस के लिए स्टाफ

वैसे तो आटा चक्की का बिजनेस छोटे स्तर पर शुरू किया जाने वाला बिजनेस है, इसीलिए शुरुआती दौर में इस बिजनेस को करने के लिए किसी भी तरह के स्टाफ मेंबर की जरूरत नहीं पड़ेगी।

परंतु यदि आप शुरुआती दौर में ही इस बिजनेस की शुरुआत एक बड़े स्तर से करना चाहते हैं अर्थात आटा चक्की प्लांट के रूप में तो आपको इस बिजनेस को संभालने के लिए एक काबिल स्टाफ मेंबर की जरूरत पड़ेगी, जो कि आपके बिजनेस को संभालने में पूरा योगदान देंगे।

बड़े स्तर पर शुरू किया जाने वाला आटा चक्की के बिजनेस में आपको कई तरह के स्टाफ को नियुक्त करने पड़ेंगे। इनमें से कुछ स्टाफ आटे की पैकेजिंग के कार्य के लिए होंगे। वहीँ यदि आप लोगों को उनके घर तक डिलीवरी की सुविधा देना चाहते हैं तो आपको इसके लिए भी कुछ स्टाफ को नियुक्त करने होंगे।

मिल में गेहूं पीसते वक्त काफी गंदगी चारों तरफ फैल जाती है ऐसे में आपको साफ सफाई के लिए भी कर्मचारी नियुक्त करने होंगे।

आटा चक्की के बिजनेस के लिए पैकेजिंग

जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया है कि आटा चक्की उद्योग बिजनेस छोटे स्तर पर शुरू किया जाने वाला बिजनेस है। ऐसे में यदि देखा जाए तो इस बिजनेस के अंतर्गत किसी भी तरह के प्रोडक्ट पैकेजिंग करने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि इस बिजनेस के अंतर्गत लोग अपने पर्सनल थैली में ही सम्मान पिसवाने के लिए लेकर आते हैं।

परंतु फिर भी यदि आप इस बिजनेस की शुरुआत एक बड़े स्तर से कर रहे हैं तो आपको अपने ग्राहकों को पैकेजिंग के सुविधा अवश्य देनी चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से आपके बिजनेस पर एक पॉजिटिव इंपैक्ट पड़ेगा, जो कि आपके बिजनेस को सफल बनाने के लिए काफी ज्यादा मददगार साबित हो सकता है।

इसके अंतर्गत आप अपने कस्टमर को उनके द्वारा लाए गए सामान को एक अच्छे पैकेट के द्वारा पैकिंग कर के दे सकते हैं, जो कि उन्हें काफी ज्यादा पसंद आएगा और यह आपके बिजनेस की सफलता का एक कारण भी बन सकता है।

आटा चक्की के बिजनेस में लगने वाली लागत

आटा चक्की के बिजनेस को करने के लिए वैसे तो ज्यादा इन्वेस्टमेंट करने की जरूरत नहीं पड़ती है। इसके अंतर्गत आपको केवल मशीन की कीमत लगती है और यदि आप इस जगह से शुरुआत किसी दुकान के माध्यम से कर रहे हैं तो उस दुकान का भी किराया लगेगा।

आज के समय में इन मशीनों की कीमत ₹40000 से ₹50000 तक की ही होती है और दुकान का किराया लगभग साल का 20,000 रुपए से लेकर 30,000 रुपए तक ही लगेगा। तो कुल मिलाकर इस बिजनेस के अंतर्गत ₹60000 रुपए से लेकर ₹70000 रुपए तक की लागत ही लगती है।

परंतु यदि आप आटा मिल उद्योग बिजनेस की शुरुआत एक बड़े स्तर से करना चाहते हैं तो आपको इस बिजनेस के अंतर्गत और भी ज्यादा इनवेस्टमेंट करने की जरूरत पड़ेगी। इस बिज़नेस में लगने वाली लागत आपके बिजनेस के स्तर पर भी निर्भर करती है।

आटा चक्की के बिजनेस में फायदा (Atta Chakki Business Profit)

जैसा कि आप सब जानते ही हैं कि ऐसा कोई भी बिजनेस नहीं है, जिसके अंतर्गत फायदा ना हो बस किसी भी बिजनेस को सफल और फायदेमंद बनाने के लिए बिजनेस को सूझभुझ, समझदारी व तजुर्बे के साथ चलाना अति आवश्यक होता है।

ठीक इसी तरह से आटा चक्की के बिजनेस (flour mill in hindi) में भी काफी ज्यादा फायदा होता है, बस इस बिजनेस को फायदेमंद बनाने के लिए सही ढंग से चलाना होता है। जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया है कि आटा चक्की के बिजनेस कि शुरुआत आपको एक ऐसे जगह से करना चाहिए, जहां पर लोगों की भीड़ भाड़ ज्यादा होती हो या तो छोटे शहर और ग्रामीण क्षेत्र में करना चाहिए।

यदि आप अपने बिजनेस कि शुरुआत इन्हीं जगह पर कर रहे हैं तो आपको इस बिजनेस के माध्यम महीने में हजारों रुपए तक का मुनाफा हो सकता है। क्योंकि इस बिजनेस की मांग गांव एवं छोटे शहरों में अधिक है।

आटा चक्की के बिजनेस के लिए मार्केटिंग

यदि आप अपने बिजनेस को सफल बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपने बिजनेस की मार्केटिंग करनी होगी, जिससे कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को आपके बिजनेस के बारे में जानकारी प्राप्त होगी और इन्हीं लोगों के माध्यम से आपका बिजनेस सफल व फायदेमंद बन सकता है।

आप सब तो जानते ही हैं कि आज का समय पूरी तरीके से आधुनिक व डिजिटल बन गया है। आज के समय में ऐसे बहुत से लोग हैं, जो कि सोशल मीडिया से काफी ज्यादा जुड़े हुए हैं तो ऐसे में आप अपने बिजनेस की मार्केटिंग करने के लिए इन्हीं सोशल मीडिया साइट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आप चाहे तो न्यूज़ पेपर, बैनर, पोस्टर, मैगज़ीन, टीवी चैनल इत्यादि के माध्यम से भी अपने बिजनेस की पब्लिसिटी करके मार्केटिंग कर सकते हैं। ऐसा करने से ज्यादा से ज्यादा लोगों को आपके बिजनेस के बारे में जानकारी पहुंचेगी और आपका बिजनेस सफल बनेगा।

इन सबके अतिरिक्त आप अपना एक विजिटिंग कार्ड भी जरूर बनवा लें और आपके मिल पर जितने भी ग्राहक आए उन सभी ग्राहकों को विजिटिंग कार्ड जरूर दें ताकि वे आपके मिल की जानकारी अन्य लोगों तक भी पहुंचा सके।

आटा चक्की बिजनेस में ध्यान रखने योग्य बातें

  • बिक्री बढ़ानी है तो आपको सबसे पहले ग्राहकों के साथ अच्छा व्यवहार रखना पड़ेगा। शुरुआत में आप अन्य लोगों की तुलना में अपने आटे और अन्य मसालों के कीमत को कुछ कम रख सकते हैं।
  • गेहूं को जब आप बाजार से खरीद कर लाते हैं तो गोदाम में ऐसे जगह पर रखें, जहां पर नमी ना पहुंचे। क्योंकि नमी पहुंचने से गेहूं में फफूंद लग जाते हैं और फिर यह खराब हो जाता है।
  • गोदाम में बहुत बार चूहे भी चले जाते हैं। ऐसे में इसका भी निरीक्षण करें कि कहीं गोदाम में चूहे तो नहीं है। क्योंकि फिर चूहे गेहूं की बोरियों को काट करके गेहूं को खाना शुरू कर देंगे। इसीलिए आप ऐसे में वहां पर दवा रख सकते हैं, जिससे चूहा गोदाम में ना आए।
  • आप जहां से भी गेहूं या अन्य कच्चा माल मंगवाते हैं तो हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला ही कच्चा माल मंगवाए। पैसे के लालच में यदि आप निम्न गुणवत्ता वाला कच्चा माल मंगवाएंगे तो शायद ग्राहक दुबारा आपसे आटा या अन्य मसाला ना खरीदें।
  • गेहूं को जब चक्की में डालकर पीसा जाता है तो गेहूं में काफी ज्यादा चौकर रहता है और बहुत से दुकानदार अधिक कमाने के लालच में चोकर वाले आटे को ही पैकेट में पैक करके बाजार में बेच देते हैं। ऐसे में आपका ब्रांड का नाम खराब होगा, इसलिए आटे से चोकर निकालने के बाद ही उसे पैकेट में पैक करें।
  • कच्चे माल को पीसने से पहले उसकी अच्छे से सफाई भी जरूर करें।
  • लगातार आटा चक्की के मशीन में आटा पीसने के कारण बहुत बार मशीन जाम हो जाता है, ऐसे में काफी गंदगी फंस जाती है। इसीलिए समय-समय पर मशीन की भी साफ-सफाई करते रहे। बहुत बार ऐसे मशीनों में कुछ बड़े कीड़े मकोड़े भी फंस जाते हैं, इसीलिए इस बात का ध्यान रखें ताकि किसी के सेहत पर बुरा असर ना पड़े।

आटा चक्की के बिजनेस में रिस्क

आप सब तो अच्छे से जानते ही हैं कि आज के समय में ऐसा कोई भी बिजनेस नहीं है, जिसके अंतर्गत रिस्क ना हो। सभी बिजनेस में शुरुआती दौर में थोड़ा ना थोड़ा रिस्क होने का चांसेस होता ही है।

ठीक इसी तरह से आटा चक्की के बिजनेस की भी शुरुआत करने में थोड़ा न थोड़ा रिस्क होता ही है। आटा चक्की के बिजनेस में पहला रिस्क यह है कि इसमें आपको कच्चे माल पहले से ही खरीद कर गोदाम में स्टोर करके रखने होते हैं। ऐसे में बहुत बार नमी के कारण गेहूं में फफूंद है पड़ जाते हैं और आपका कच्चा माल खराब हो सकता है। ऐसे में आपको समय-समय पर कच्चे माल की निगरानी करनी पड़ती है।

व्यापार में दूसरा रिस्की यह भी है कि गेहूं पीसने वाली मशीन में बहुत बार कुछ कीड़े मकोड़े भी फस जाते हैं। ऐसे में गेहूं को पीसने के साथ कीड़े मकोड़े भी इन्हीं के साथ पिसा जाते हैं और जिसका बुरा प्रभाव ग्राहक के सेहत पर पड़ता है। ऐसे में ग्राहकों की कंप्लेन आने लगती है और फिर आपके ब्रांड का नाम खराब हो सकता है। इसीलिए गेहूं पीसने वाली मशीन का भी समय-समय पर जांच करते रहना पड़ता है।

यदि आप इस बिजनेस की शुरुआत बिना सोचे समझे और बिना जानकारी प्राप्त किए कर रहे हैं तो आपके लिए यह बिजनेस एक घाटे का सौदा साबित हो सकता है।

इसीलिए आप अपने बिजनेस से जुड़ी हुई संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के बाद ही बिजनेस की शुरुआत करें ताकि आपके बिजनेस में लॉस होने का चांसेस ना के बराबर हो।

FAQ

आटा चक्की का बिजनेस कैसे जगह पर करना चाहिए?

आटा चक्की का बिजनेस ऐसी जगह पर करना चाहिए, जहां पर लोगों का भीड़ भाड़ ज्यादा होता हो और हो सके तो इस बिजनेस की शुरुआत ज्यादातर छोटे शहर या ग्रामीण इलाके पर करना चाहिए।

आटा चक्की के बिजनेस की शुरुआत करने के लिए कितना इन्वेस्टमेंट करना पड़ता है?

आटा चक्की के बिजनेस की शुरुआत करने के लिए कम से कम 60000 रुपए से लेकर 70000 रुपए तक की लागत लगती है।

आटा चक्की के बिजनेस में कितना मुनाफा होने का चांस होता है?

आटा चक्की के बिजनेस में महीने में हजारों रुपए तक का मुनाफा होने का चांस होता है।

आटा चक्की के बिजनेस में लगने वाली मशीन की कीमत कितनी होती है?

आटा चक्की के बिजनेस में लगने वाली मशीन की कीमत कम से कम 40000 से लेकर 50000 रुपए तक का होता है।

आटे में लचीलापन किस कारण होता है?

आटा बनाने के लिए Durum Wheat का प्रयोग किया जाता है, जिसमें ग्लूटेन नामक प्रोटीन होता है और इसी के कारण आटा बहुत लचीला हो जाता है।

आटा चक्की का बिजनेस क्या कोई भी व्यक्ति कर सकता है?

हां! आटा चक्की का बिजनेस एक ऐसा बिजनेस है, जिसे कोई भी व्यक्ति बड़ी ही सरलता के साथ कर सकता है। इस बिजनेस को करने के लिए किसी भी तरह के शिक्षित होने की आवश्यकता नहीं होती है। एक अशिक्षित व्यक्ति भी इस बिजनेस की शुरुआत कर सकता है।

क्या आटा चक्की का बिजनेस फायदेमंद है?

बिल्कुल आटा चक्की का बिजनेस फायदेमंद है। क्योंकि आटे की जरूरत हर किसी के घर में है और लगभग सभी तरह के व्यंजन में आटे की जरूरत पड़ती है।

निष्कर्ष

आज के समय में आटा चक्की का बिजनेस एक काफी ज्यादा फायदेमंद बिजनेस है। आज के समय में इस बिजनेस की जरूरत लगभग सभी किसी को है। यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसे करने के लिए किसी को भी शिक्षित होने की जरूरत नहीं है।

अशिक्षित व्यक्ति भी इस बिजनेस की शुरुआत बड़ी ही सरलता के साथ कर सकता है और इसके साथ ही साथ इस बिजनेस के अंतर्गत काफी ज्यादा मुनाफा भी होता है।

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें? (Atta Chakki Business plan in Hindi) आपको पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

फर्नीचर बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

डेयरी फार्मिंग बिजनेस कैसे शुरू करें?

101+ बेहतरीन मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस आइडियाज

10+ज्यादा कमाई वाले बिजनेस आईडिया

Leave a Comment

1 thought on “आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें? (प्रक्रिया, निवेश, मुनाफा)”

  1. सर मैंने आपका ब्लॉग पढ़ा आपने इसमें बिजनेस शुरू करने के बहुत आसान तरीके बताये हैं। जिससे बहुत से लोग अपना बिजनेस स्टार्ट कर रहे हैं |

    Reply