चीनी होलसेल बिज़नेस कैसे करें?

Suger Wholesale Business Hindi : चीनी जो सभी के घरों में सामान्य तौर पर उपयोग होने वाली चीज है। यह घरों में विभिन्न प्रकार की मीठी भोजन बनाने में, इसके अतिरिक्त रेस्टोरेंट, होटल ,मिठाई की दुकान में हर जगह पर मीठे भोजन बनाने में चीनी का बहुत ज्यादा मात्रा में उपयोग होता है। इस तरह भारत चीनी का बहुत ज्यादा मात्रा में कंज्यूम करने वाला देश है।

Suger-Wholesale-Business-Hindi-
Image : Suger Wholesale Business Hindi

जिसके कारण चीनी की मांग हमेशा ही बाजार में बनी रहती है। इसलिए चीनी के दाम में ज्यादा उतार-चढ़ाव भी देखने को नहीं मिलता जिसके कारण चीनी के व्यवसाय को शुरू करना काफी सफल व्यवसाई हो सकता है। ऐसे में आप भी चीनी के होलसेलर व्यवसाय को शुरू करके अच्छी खासी कमाई करना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।

आज के लेख में हम आपको बताएंगे चीनी होलसेल बिज़नेस कैसे करें?, चीनी को कहां से खरीदें , चीनी के होलसेल व्यवसाय को शुरू करने के लिए कौन-कौन सी चीजों की आवश्यकता पड़ेगी और साथ ही आपको कितना लागत लगेगा और इस व्यवसाय से आप इतना कमा सकते हैं इत्यादि सभी बातों पर चर्चा करेंगे।

चीनी होलसेल बिज़नेस कैसे करें? | Suger Wholesale Business Hindi

चीनी के होलसेल व्यवसाय की बाजार में मांग

चीनी की आवश्यकता हर तरह के मीठे सामग्रियों को बनाने में उपयोग होता है और साथ ही भारत जैसे देशों में गन्ने की खेती भी काफी प्रचुर मात्रा में होती है जिसके कारण भारत में चीनी का उत्पादन भी बहुत ज्यादा होता है। विश्व के चीनी उत्पादक देशों में भारत द्वितीय स्थान पर आता है। भारत बहुत बड़ा चीनी उत्पादक देश के साथ बहुत बड़ा चीनी कंजूमर देश भी है।

इसीलिए चीनी का डिमांड हमेशा ही बना रहता है। यह व्यवसाय सदाबहार है जो कभी मंदी में नहीं चल सकता है। आज भारत में कई सारी चीनी बनाने की फैक्ट्री है जिनसे आप सस्ते दाम पर चीनी खरीद कर बाजार में चीनी बेच सकते हैं और काफी अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं। दूसरी चीज आप इस व्यवसाय को बहुत कम निवेश के साथ भी शुरू कर सकते हैं।

चीनी होलसेल का बिजनेस क्या होता है?

चीनी होलसेल बिजनेस में आपको चीनी बनाने वाले मिल से सीधे चीनी खरीदना होता है और फिर उस चीनी को अपने एरिया के अलग-अलग रिटेलर दुकानों में बेचना होता है। हालांकि आप चिनी को अपने ब्रांड के नाम के साथ ही बेच सकते हैं।

चीनी के होलसेल व्यवसाय को बहुत कम निवेश के साथ भी शुरू कर सकते हैं क्योंकि इसमें ज्यादातर निवेश चीनी खरीदने में लगाने पड़ते हैं क्योंकि इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको अधिक मात्रा में एक बार में चीनी खरीदना पड़ता है।

चीनी होलसेल बिजनेस के प्रकार

चीनी के व्यवसाय के दो प्रकार हैं पहला तो सामान्य होलसेल, जिसमें आप किसी भी चीनी मिल से चीनी खरीद कर ,आप उसे सफाई करके रिटेलर दुकानों में बेच सकते हैं। दूसरा तरीका है कि आप चीनी मिल से चीनी खरीदें, खुद का ब्रांड स्थापित करें। आप अपने ब्रांड के नाम से पैकेजिंग तैयार करें और चीनी को पैकिंग कर के अपने ब्रांड के नाम से बेचे।

हालांकि इसमें आपको ज्यादा इनवेस्टमेंट करने पड़ते हैं क्योंकि अपने ब्रांड की आपको अच्छी मार्केटिंग की भी जरूरत पड़ती है और पैकेजिंग मशीन लेनी पड़ती है। इसके अतिरिक्त पैकिंग के लिए आपको कुछ कर्मचारियों को भी नियुक्त करना पड़ता है। इसीलिए चीनी की होलसेल व्यवसाय को शुरू करने से पहले आप इस बात को निश्चित कर ले कि आप को चीनी होलसेल की व्यवसाय को किस तरीके से शुरू करना है ब्रांड के साथ या बिना ब्रांड के।

चीनी के होलसेल व्यवसाय को शुरू करने के लिए आवश्यक सामग्री

चीनी के होलसेल व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको ज्यादा सामग्री की जरूरत नहीं पड़ती। बस आपको मिल से चीनी खरीदने पड़ती है ,साथ ही चीनी को रखने के लिए आपको गोडाउन बनाना पड़ता है और बिजली-पानी की सुविधा करनी पड़ती है। अपने व्यवसाय के लिए लाइसेंस बनवाने पड़ते हैं साथ ही जरूरत हो तो कुछ कर्मचारियों को भी नियुक्त करने पड़ते है।

यह भी पढ़े : खाद्य-पेय बिजनेस आइडियाज

चीनी के होलसेल बिज़नेस के लिए लागत

चीनी के होलसेल व्यवसाय में आपको गोडाउन बनाने के लिए जगह की आवश्यकता पड़ती है। उसके लिए निवेश लगाने पड़ते हैं। चीनी को खरीदने के लिए भी आपको 4 से 5 लाख रुपए की लागत लगेगी क्योंकि चीनी के होलसेल व्यवसाय के लिए आपको एक साथ अधिक मात्रा में चीनी खरीदना पड़ता है। वंहीं चीनी के ट्रांसपोर्टेशन के लिए आपको वाहनों की जरूरत पड़ेगी जिसके लिए 2 से 3 लाख की लागत लगानी पड़ेगी।

 यदि आप कुछ कर्मचारियों को भी नियुक्त करते हैं तो उसके लिए भी आपको कुछ  निवेश करने पड़ेंगे। यदि आप किराए पर गोडाउन के लिए जगह लेते हैं तो 15 से 20 हजार की लागत लग सकती है वहीं यदि आप खुद की जमीन लेते हैं तो 4 से 5 लाख की भी लागत लग सकती है। इस तरीके से खुद के साधनों के साथ आप इस व्यवसाय को 9 से 10 लाख रुपए के लागत में शुरू कर सकते हैं।

चीनी के होलसेल बिज़नेस के लिए जगह का विश्लेषण

जब चिनी के होलसेल व्यवसाय शुरू करते हैं तो आपको अपने क्षेत्र का विश्लेषण करना बहुत जरूरी है क्योंकि आप अपने होलसेल कीमत पर चीनी को अपने आसपास के जिस भी क्षेत्र में बेचते हैं वहां किस प्रकार के चीनी की ज्यादा डिमांड है वह जानना जरूरी है ताकि आप उसी क्वालिटी के चीनी को खरीदें।

उदाहरण के लिए यदि आप अच्छी क्वालिटी की चीनी बेच ते हैं लेकिन अच्छी क्वालिटी की चीनी की कीमत ज्यादा है और आप जिस भी क्षेत्र में बेच रहे हैं वहां पर ज्यादा कीमत की चीनी नहीं बिकती है तो फिर आपका इसमें नुकसान हो जाएगा।

इसीलिए आसपास के रिटेलर दुकानों में जाकर पूछे कि उनके दुकानों में किस प्रकार की चीनी ज्यादा मात्रा में बिकती है और कौन से कीमत पर वे दूसरे होलसेलर से चीनी खरीदते हैं जिससे आपको भी चीनी का एक रेट निश्चित करने में मदद मिलेगा।

चीनी का होलसेल बिज़नेस के लिए जमीन

हालांकि आपको चीनी के होलसेल व्यवसाय को शुरू करने के लिए ज्यादा मात्रा में जगह की तो आवश्यकता नहीं होती फिर भी आपको इसमें चीनी को रखने के लिए एक गोडाउन को बनाने की जरूरत पड़ेगी। साथ ही आप अन्य रिटेलर लोगों से संपर्क करने के लिए, ग्राहकों से बातचीत करने के लिए आप छोटा सा ऑफिस भी बनवा सकते हैं। इस तरीके से आप एक चीनी हॉलसेल के व्यवसाय को 400 से 500 स्क्वायर फीट के जगह में शुरू कर सकते हैं।

चीनी के होलसेल व्यवसाय के लिए चीनी कहाँ से खरीदे?

जब आप चीनी के होलसेल व्यवसाय को शुरू करने के बारे में सोचते हैं तो सबसे बड़ा प्रश्न आता है कि आप चीनी को कहां से खरीदें। बता दें जब आप चिन्नी होलसेल शुरू करते हैं तो आपको चीनी मिल से चीनी को खरीदना होता है।

दूसरी बात यदि आप सस्ते दाम पर चीनी चाहते हैं तो आप ऐसे राज्य के चीनी मिल से संपर्क करें जिस राज्य में बहुत ज्यादा मात्रा में गन्ने की खेती होती हो जैसे कि उत्तर प्रदेश, बिहार, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु इत्यादि राज्यों के अंदर गन्ने की खेती बहुत ज्यादा मात्रा में होती है। ऐसे में यदि आप इन्हीं राज्य के किसी चीनी मिल से चीनी खरीदेंगे तो आपको ज्यादा सस्ते में चीनी पड़ेगा।

आप जिस भी मिल से चीनी खरीदे सबसे पहले तो आप उस मील में जाकर चीनी की क्वालिटी को जरूर देखें क्योंकि एक मिल में विभिन्न क्वालिटी के चीनी को बनाया जाता है जिसमें मोटे दाने, पतले दाने, मध्यम आकार के दाने होते हैं और उनके रंगों में भी काफी अंतर होता है।

सबसे पहले तो आप जिस भी क्षेत्र में अपने चीनी को बेचने वाले हैं, पहले इस बात को जान ले कि किस क्वालिटी के चीनी वहां ज्यादा बिकता है। उस हिसाब से आप चीनी मिल से चीनी खरीदें और हां दोस्तों ऐसे मिल से चीनी आपको कम मात्रा में नहीं मिलती बल्कि आपको 5 से 10 लाख रुपए की लोट में चीनी को खरीदना पड़ता है, जिससे आपको चीनी सस्ते में भी मिल जाते हैं।

खुद का ब्रांड स्थापित करें।

हालांकि आप चीनी होलसेल बिजनेस में आप चीनी को बिना ब्रांड के भी बेच सकते हैं लेकिन यदि आप खुद का ब्रांड स्थापित करके चीनी को बेचते हैं तो ऐसे में आपकी चीनी ज्यादा मात्रा में बिकती है क्योंकि ज्यादातर लोग ब्रांड पर विश्वास करते हैं और यदि आपके चीनी की अच्छी क्वालिटी है तो वह आपके ब्रांड के नाम से ही दोबारा चीनी खरीदेगी।

चीनी की पैकेजिंग

यदि आप चीनी के होलसेल व्यवसाय में खुद के ब्रांड को स्थापित करते हैं, तो ऐसे में आप जिस भी पैकेट में चीनी को पैक करते हैं उस पैकेट में आपकी ब्रांड का नाम छपवाना जरूरी होता है, जिससे ग्राहकों को आप के ब्रांड के बारे में पता चले।

हालांकि आप चाहे तो बिना ब्रांड के भी चीनी के व्यवसाय को शुरू कर सकते हैं जिसके लिए आप को किसी खास प्रकार के प्लास्टिक में चीनी को पैक करने की जरूरत नहीं होती। आप सीधे रिटेलर दुकान में जितनी चीनी चाहिए होती है उतनी किलो की बोरी के साथ बैच सकते है।

यह भी पढ़े : MBA चाय वाला फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस कैसे शुरू करें?

चीनी के होलसेल व्यवसाय के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति

यदि आप एक बड़ा चीनी का होलसेल बिजनेस शुरू करते हैं जिसमें आप खुद का ब्रांड भी स्थापित करते हैं तो ऐसे में आपको अपने व्यवसाय को संभालने के लिए कुछ कर्मचारियों की भी आवश्यकता पड़ेगी जो चीनी के पैकेजिंग में मदद करेंगे और कुछ कर्मचारियों को आप बाजार में रिटेलर दुकानों में चीनी बेचने के लिए भी नियुक्त कर सकते हैं।

चीनी के होलसेल व्यवसाय के लिए आवश्यक दस्तावेज

चीनी के होलसेलर व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको अपने व्यवसाय का पंजीकरण करवाना जरूरी है साथ ही अपने व्यवसाय के नाम से पैन कार्ड भी बनवा लें और यदि आपकी व्यवसाय से ज्यादा आमदनी हो रही है तो इसके लिए आप जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी जरूर करवाएं।

किसी भी प्रकार के लाइसेंस बनवाने के लिए आपको अपने पास पर्सनल डॉक्यूमेंट जैसे की आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ, बैंक के अकाउंट, फोटोग्राफ, ईमेल आईडी ,फोन नंबर इत्यादि के दस्तावेज आपके पास होने चाहिए। बाकी अन्य प्रकार के आवश्यक लाइसेंस के बारे में आप अपनी स्थानीय प्राधिकरण से संपर्क करके जान सकते हैं।

चीनी होलसेल के व्यवसाय में कमाई

चीनी होलसेल के व्यवसाय में आपको हमेशा ही मुनाफा होता है। इस व्यवसाय में आप 20 से 40 परसेंट का लाभ मार्जिन कमा सकते हैं। यदि आप किसी चीनी मिल से सस्ती कीमत पर चीनी खरीदते हैं और उसे बाजार की कीमत पर बेचते हैं तो आपको प्रति किलो 10 से 30 का भी लाभ कमा मील सकता हैं।

लेकिन चीनी की क्वालिटी होना बहुत जरूरी है क्योंकि क्वालिटी यदि खराब हो तो एक बार आपकी चीनी भले बिक जाए  लेकिन दोबारा फिर वो चीनी नहीं बिकेगी। इसीलिए यदि आप इस व्यवसाय में लंबे समय तक मुनाफा चाहते हैं, तो हमेशा ही अच्छी क्वालिटी की चीनी खरीदें फिर चाए उसको ज्यादा रेट पर क्यों ना खरीदना पडे। यदि आपकी चीनी की क्वालिटी अच्छी होगी तो चीनी ज्यादा मात्रा में बिकेगा और आप का मुनाफा भी बहुत ज्यादा होगा।

FAQ

क्या चीनी के होलसेल बिजनेस के लिए भी मार्केटिंग जरूरी है?

व्यवसाय चाहे कोई भी हो उसके सफलता में मार्केटिंग की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। बिना मार्केटिंग के आप अपने प्रोडक्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों में नहीं बेंच पाएंगे। एक बार मार्केटिंग करने के बाद ग्राहक हमेशा आपके साथ बने रहते हैं। इसीलिए चीनी के होलसेल बिजनेस के लिए भी मार्केटिंग जरूरी है।

भारत दुनिया में चीनी उत्पादक देशों के कौन से क्रम में आता है।

भारत के अतिरिक्त भी दुनिया के कई देशों में प्रचुर मात्रा में चीनी का उत्पादन होता है। ब्राजील विश्व के चीनी उत्पादक देश में प्रथम स्थान पर आता है तो वंही भारत विश्व की चीनी उत्पादक देशों में दूसरे नंबर पर आता है।

क्या चीनी बेचना एक लाभदायक व्यवसाय है?

चीनी का डिमांड हमेशा ही बाजार में बना रहता है क्योंकि सभी प्रकार की मीठे भोजनों में चीनी का इस्तेमाल होता है ऐसे में चीनी का होलसेल व्यवसाय करना आपके लिए हमेशा ही फायदेमंद होगा क्योंकि इसके दाम में भी कभी ज्यादा गिरावट नहीं आती है। और आप इसको आसानी से बेंच भी सकते हैं।

चीनी के होलसेल व्यवसाय में किसी प्रकार की मशीन की आवश्यकता होती है क्या?

चीनी के होलसेल व्यवसाय में किसी भी प्रकार की मशीन की आवश्यकता नहीं होती लेकिन यदि आप खुद का ब्रांड स्थापित करते हैं और चीनी को खुद के ब्रांड के नाम के पैकेट में पैक करके बाजार में बेचते हैं तो उसके लिए आपको पैकिंग मशीन लेने की आवश्यकता पड़ सकती है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने चीनी होलसेल बिज़नेस कैसे करें? ( Suger Wholesale Business Hindi) इसके बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाई है। हमें पूरी उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपके लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल रही होगी। यदि कोई व्यक्ति इस आर्टिकल से संबंधित उलझन में है या व्यक्ति के मन में कोई सवाल है। तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है। हम आपकी समस्या का समाधान करने के लिए हर समय तत्पर रहते हैं।

यह भी पढ़े :

गन्ने का रस बेचने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

बिजली के सामान का होलसेल बिज़नेस कैसे करें?

कपड़े का बिजनेस कैसे शुरू करें?

लोअर टी शर्ट होलसेल बिज़नेस कैसे शुरु करें?

Leave a Comment

1 thought on “चीनी होलसेल बिज़नेस कैसे करें?”

  1. चीनी व्यवसाय से संबंधित आपने बहुत अच्छी जानकारी दी उसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

    Reply