गृह उद्योग कैसे शुरू करें? (प्रक्रिया और लाभ)

Gruh Udyog Kaise Shuru Kare: बढ़ती जनसंख्या के साथ बेरोजगारों की संख्या भी बहुत बढ़ रही है। बेरोजगारी को खत्म करने और आज की युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए गृह उद्योग बहुत अच्छा जरिया है। जिन्हें व्यवसाय के बारे में बहुत अच्छा ज्ञान नहीं है, वे भी गृह उद्योग के तहत एक छोटा सा व्यवसाय शुरू करने का रिस्क ले सकते हैं।

गृह उद्योग के तहत आज ज्यादातर लोग कुछ ना कुछ छोटा सा व्यवसाय शुरू करके खुद के कदमों पर खड़े हो रहे हैं और अन्य लोगों को भी रोजगार दे रहे हैं। गृह उद्योग के कारण आज गांव की औरतें भी आत्मनिर्भर बन रही है।

Gruh Udyog Kaise Shuru Kare
Image: Gruh Udyog Kaise Shuru Kare

यदि आप भी अपना गृह उद्योग शुरू करके आत्मनिर्भर बनना चाहते हैं तो बिल्कुल सही लेख पर आए हैं। क्योंकि कि आज के लेख में हम आपको गृह उद्योग कैसे शुरू करें (Gruh Udyog Kaise Shuru Kare) से संबंधित जानकारी देने वाले हैं। तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

गृह उद्योग कैसे शुरू करें? | Gruh Udyog Kaise Shuru Kare

Table of Contents

गृह उद्योग क्या होता है?

गृह उद्योग एक लघु व्यवसाय है, जिसे स्वयं के घर या किराए पर एक छोटे से स्थान को लेकर बहुत कम इन्वेस्टमेंट में ही शुरू किया जा सकता है। एमएसएमई के गाइडलाइन के मुताबिक जिस भी व्यवसाय को एक करोड़ की अधिकतम पूंजी निवेश से शुरू किया जा सकता है, वह व्यवसाय गृह उद्योग के तहत आता है।

हालांकि बहुत से लोग कुटीर उद्योग और गृह उद्योग को लेकर कंफ्यूज रहते हैं। वैसे बता दें कि कुटीर उद्योग भी बहुत कम लागत के साथ शुरू किया जाने वाला व्यवसाय है। परंतु जब कुटीर उद्योग विकसित होकर बड़ा हो जाता है और जब उसमें कुछ कर्मचारियों को नियुक्त करने की जरूरत पड़ती है तो लह ग्रह उद्योग कहलाता है।

यह उद्योग मध्यम वर्ग के परिवार के लिए बहुत ही फायदेमंद है। गृह उद्योग को शुरू करने के लिए सरकार के द्वारा  मुद्रन लोन देकर बढ़ावा दिया जा रहा है।

गृह उद्योग के तहत कौन-कौन से व्यवसाय आते हैं?

गृह उद्योग एक लघु उद्योग है, जिसके तहत वे सभी व्यवसाय आते हैं, जिससे एक करोड़ से कम लागत में शुरू किया जा सकता है जैसे कि अचार, पापड़, मसाले बेचने का व्यवसाय, मोमबत्ती बनाने का व्यवसाय, नेल पॉलिश, लिपस्टिक, मेहंदी, इत्र जैसी कॉस्मेटिक चीजों को बनाने का व्यवसाय, माचिस, अगरबत्ती, हैंड मेड साबुन, धातु के उपकरण, गुलाल, रंग, मंजन, गम इत्यादि बनाने का उद्योग, डेरी उद्योग, एलईडी लाइट असेंबल का व्यवसाय, चॉकलेट, बिस्किट जैसे बेकरी प्रोडक्ट बनाने का व्यवसाय इत्यादि सभी छोटे छोटे व्यवसाय ग्रह उद्योग के तहत आते हैं।

गृह उद्योग का महत्व

  • गृह उद्योग का सबसे ज्यादा फायदा यह है कि इसे कोई भी कम इन्वेस्टमेंट पर शुरू कर सकता है।
  • गृह उद्योग आज नौकरी की तलाश में भटक रहे युवाओं को खुद का व्यवसाय शुरू करने का मौका दे रही है।
  • गृह उद्योग के तहत औरते भी आत्मनिर्भर बन रही है।
  • गृह उद्योग के तहत तैयार प्रोडक्ट को बेचना भी काफी आसान होता है।
  • यह शहरों के साथ-साथ गांवों और छोटे कस्बों में रहने वाले लोगों के रोजगार का भी अच्छा जरिया है।
  • गृह उद्योग में बड़ी-बड़ी मशीनों की आवश्यकता नहीं पड़ती है और इसे बहुत कम जगह में शुरू किया जा सकता है।

गृह उद्योग को कैसे शुरू करें? (Gruh Udyog Kaise Shuru Kare)

व्यापार का चयन करें

आज के समय में हर कोई रोजगार चाहता है लेकिन रोजगार की कमी होने के कारण लोग खुद ही अपना बिजनेस शुरू करते हैं। माना कि लघु व्यापार में लोगों को कम इन्वेस्टमेंट से अच्छा खासा मुनाफा कमाने की अपॉर्चुनिटी मिलती है लेकिन आपके मन में व्यापार को शुरू करने का विचार आता है तो सबसे पहले यह निश्चित करना जरूरी है कि आप कौन से प्रकार का व्यापार शुरू करना चाहते हैं क्योंकि गृह उद्योग में कई प्रकार के उद्दोग आते हैं।

यदि आप किसी भी प्रोडक्ट को खुद बनाकर बेचने का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं या फिर आप खुद प्रोडक्ट को बाजार से खरीद कर बेचना चाहते हैं ऐसे किसी प्रकार की सेवा देने वाली कंपनी शुरू करना चाहते हैं तो उसके अनुसार ही आपको अपने व्यापार से संबंधित जानकारी इक्कठा करनी होगी।

मार्केट रिसर्च करें

अपने गृह उद्योग में अच्छा मुनाफा कमाने के लिए जरूरी है कि आप पहले मार्केट रिसर्च करके उससे संबंधित सभी जानकारी इकट्ठा करें। आप देखे कि आप जिस भी प्रोडक्ट का व्यवसाय शुरू कर रहे हैं, उसकी डिमांड मार्केट में कितनी ज्यादा है और जिस क्षेत्र में आप अपने व्यवसाय को शुरू कर रहे हैं, उस क्षेत्र में पहले से व्यवसाय को चलाने वाले कितने लोग हैं।

यदि आपके प्रतिस्पर्धी ज्यादा है तो आपको अपने व्यवसाय को बढ़ाने में ज्यादा मेहनत करना पड़ेगा। इसीलिए कोशिश करें अपने व्यवसाय को ऐसे जगह पर शुरू करें, जहां पर प्रतिस्पर्धी की संख्या कम हो और लोगों में उस प्रोडक्ट का डिमांड भी ज्यादा हो।

इसके अलावा यह भी ध्यान देना जरूरी है कि जिन प्रोडक्ट का व्यवसाय शुरू कर रहे हैं, उस प्रोडक्ट का विक्रेता आपके क्षेत्र में कितने है ताकि आपको अपने प्रोडक्ट को इकट्ठा करने में दिक्कत ना हो।

बिजनेस शुरू करने के लिए प्लान बनाएं

गृह उद्योग शुरू करने की योजना बनाते हैं तो व्यवसाय को शुरू करने से पहले उसका एक ढांचा तैयार कर लेना चाहिए ताकि व्यवसाय को शुरू करते ही आपका मुनाफा होना शुरू हो जाए। व्यवसाय शुरू होने के बाद सोचने से अच्छा है कि पहले ही अपने व्यापार को किस तरीके से आगे लेकर जाना है, उन सभी बातों का एक ढांचा तैयार कर लें।

जैसे कि कितने बजट में व्यवसाय को शुरू करना है, व्यवसाय कौन सी जगह पर शुरू करना है, कितने कर्मचारियों को नियुक्त करना है, किस तरीके से ग्राहकों को जुटाना है, व्यापार को किस तरह प्रमोट करना है इत्यादि।

मशीनों व आवश्यक उपकरणों की जानकारी लें

यदि आप गृह उद्योग के तहत ऐसे व्यवसाय को शुरू कर रहे हैं, जिसमें आप खुद प्रोडक्ट को बनाकर मार्केट में सेल करना चाहते हैं तो आपको समय बचाने के लिए मशीन की आवश्यकता पड़ सकती है। आज हर प्रकार के प्रोडक्ट को बनाने की मशीनें बाजार में आ गई है।

यदि आप चिप्स, पापड़ जैसे खाद्य पदार्थों का व्यवसाय शुरू कर रहे हैं तो इसे बनाने के लिए मशीन ले सकते हैं, जो काफी सस्ते दाम में बाजार में उपलब्ध हो जाते हैं। इससे आपका समय भी बचता है, जिससे आप अपने व्यवसाय में और भी ज्यादा ध्यान दे पाते हैं।

इसके अतिरिक्त आपको अपने प्रोडक्ट पैकेजिंग के लिए भी मशीन लेनी पड़ेगी। इस तरह अपने व्यवसाय को शुरू करने से पहले व्यवसाय में आवश्यक मशीन और उपकरणों की जानकारी जुटांए।

व्यवसाय की लागत और लाभ का विश्लेषण करना

भले ही आप एक ग्रह उद्योग शुरू कर रहे हो लेकिन इसमें कई तरह के व्यवसाय आते हैं और प्रत्येक व्यवसाय को शुरू करने के लिए लागत भी अलग-अलग होते हैं। इसीलिए जब आप किसी एक विशेष प्रकार के गृह उद्योग को शुरू करने का सोच रहे हैं तो सबसे पहले आपको उसकी लागत की जानकारी होनी चाहिए ताकि उसके अनुसार ही आप पैसे इकट्ठा कर सके।

गृह उद्योग में आप कोई भी छोटा से छोटा व्यवसाय शुरू करते हैं तभी आप को कम से कम ₹50000 तक की आवश्यकता पड़ेगी। अपनी क्षमता के अनुसार आप अपने व्यवसाय में और भी ज्यादा इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं। लागत का विश्लेषण करने के बाद अपने व्यवसाय में होने वाले लाभ का भी विश्लेषण जरूर करें।

क्योंकि यदि आप एक अच्छी खासी इन्वेस्टमेंट के साथ कोई व्यवसाय शुरू करते हैं और वह आपको सही मुनाफा ना दे तो व्यवसाय शुरू करने का कोई फायदा नहीं। हालांकि यदि आप मार्केट डिमांड के अनुसार किसी व्यवसाय को शुरू करते हैं तो आपको उसमें 30 से 35 हजार की कमाई हर महीने हो सकती है। जैसे जैसे आपका बिजनेस मार्केट में व्यवस्थित होते जाएगा, आपकी प्रॉफिट भी और बढ़ती जाएगी।

लोन के लिए आवेदन

बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जिनके पास एक अच्छी बिजनेस प्लान होती है। लेकिन पूंजी ना होने के कारण व्यवसाय को शुरू नहीं कर पाते हैं। लेकिन सरकार उन सभी लोगों को रोजगार देने के लिए और अपने व्यवसाय को शुरू करने का मौका देने के लिए मुद्रन लोन लेकर आई है, जिसके तहत एक एलिजिबल व्यक्ति 10,000 से लेकर ₹500000 तक का लोन के लिए आवेदन कर सकता है और कुछ ही दिनों में लोन का पैसा उसके बैंक में ट्रांसफर कर दिया जाता है।

इस तरीके से यदि आप अपने व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं और आपके पास पूंजी की कमी है तो आप सबसे पहले अपने व्यवसाय को शुरू करने में आवश्यक पूंजी को सुनिश्चित कर लें, उसके बाद किसी भी सीएससी सेंटर में जाकर ऑनलाइन या फिर नजदीकी बैंक में जाकर ऑफलाइन मुद्रन लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

व्यापर के लिए स्थान का चुनाव करना

जब आप अपने व्यवसाय की पूरी योजना तैयार कर लें तब आपको एक अच्छे स्थान का चुनाव करना पड़ेगा। हालांकि आप अपने गृह उद्योग के अपने घर का भी चयन कर सकते हैं लेकिन यदि आप अपने व्यवसाय को अपने घर से दूर रखना चाहते हैं तो आपको एक अच्छे मार्केट एरिया में स्थान का चुनाव करना पड़ेगा, जहां पर आते जाते लोगों की नजर आपकी दुकान पर पड़े।

आप जहाँ पर अपने व्यवसाय के लिए स्थान का चयन करना करते है, वह जगह पर ट्रांसपोर्टेशन की अच्छी सुविधा होनी चाहिए। इसके अतिरिक्त बिजली पानी की अच्छी सुविधा होनी चाहिए।

कर्मचारियों की नियुक्ति करें

जब आप किसी भी प्रकार के गृह उद्योग को शुरू कर रहे हैं तो व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए आपको कुछ कर्मचारियों की भी जरूरत पड़ेगी। जैसे कि आप कुछ इस प्रकार के व्यवसाय को शुरू करते हैं, जिसमें मशीनों का संचालन करना पड़ता है तो आपको मशीनों के संचालन के लिए किसी कुशल कर्मचारियों को नियुक्त करना पड़ेगा।

इसके अतिरिक्त अपने प्रोडक्ट की पैकेजिंग के लिए आपको कुछ कर्मचारियों को नियुक्त करना पड़ेगा। इसके अतिरिक्त यदि आप ग्राहकों को होम डिलीवरी की सुविधा देते हैं तो उसके लिए भी आपको कर्मचारियों की नियुक्ति करनी पड़ेगी।

यह भी पढ़े: कम निवेश में लघु उद्योग कैसे शुरू करें?

गृह उद्योग रजिस्ट्रेशन

व्यापार भले ही छोटा हो परंतु कानूनी रूप से उसे वैध बनाना बहुत जरूरी है ताकि भविष्य में किसी भी प्रकार की परेशानी उत्पन्न ना हो। इसके अतिरिक्त अपने उद्योग के लिए मुद्रा लोन लेना चाहते हैं तभी आपकी व्यवसाय का पंजीकरण होना बहुत जरूरी है, जिसके लिए आपको भारत सरकार के फ्री वेबसाइट उद्योग आधार में जाकर ऑनलाइन पंजीकरण करवा सकते हैं।

यदि आप ऑफलाइन अपने व्यवसाय का पंजीकरण करवाना चाहते हैं, इसके लिए आपको अपने नजदीकी व्यापार अधिकारी के पास जाना होगा, जहां पर आप अपने बिजनेस के प्लान को उन्हें बता सकते हैं। जिसके बाद वे सभी जानकारियों को जांचकर बिजनेस का लाइसेंस जारी कर देगा और इस तरीके से आपका बिजनेस लिगल रूप से पंजीकृत हो जाएगा।

इसके अतिरिक्त आज हर एक व्यवसाय में जीएसटी पंजीकरण भी कराना अनिवार्य हो गया है। यदि आपका व्यवसाय में अच्छा खासा मुनाफा होना शुरू हो जाता है तब आपको जीएसटी पंजीकरण भी करवाने की जरूरत पड़ेगी।

बिजनेस के लिए बैंक अकाउंट खुलवाना होगा

ध्यान रहे आप भले ही एक छोटा सा व्यवसाय शुरू कर रहे हैं लेकिन आज हर व्यवसाय में पैसे की लेनदेन ऑनलाइन होती है और व्यापार के लिए जमा खाता का उपयोग करना नियम के विरुद्ध होता है। इसीलिए अपने व्यवसाय को शुरू करने के बाद आपको नजदीकी बैंक में एक चालू खाता भी खुलवा ना पड़ेगा, जिससे आप आसानी से पैसे का लेनदेन कर पाएंगे।

गृह उद्योग में सफलता पाने के कुछ टिप्स

अपने उत्पादों को बेस्ट रखें

बहुत से लघु उद्यमी इसलिए असफल हो जाते हैं क्योंकि वे शुरुआत से ही पैसे कमाने पर जोड़ देते हैं। लेकिन यदि आप अपने व्यवसाय को अच्छे लेवल तक ले जाना चाहते हैं तो आपको शुरुआत में मुनाफे से ज्यादा अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी पर ध्यान देना होगा। क्योंकि आज की जनरेशन बहुत शिक्षित हो चुकी है और आज ज्यादातर लोग किसी भी प्रकार के प्रोडक्ट को लेने से पहले उसकी क्वालिटी देखते हैं।

भले ही आपका व्यापार छोटा हो लेकिन वे आपके प्रोडक्ट की कीमत को अन्य दुकानों से जरूर तुलना करते हैं। ऐसे में भले ही आपको शुरुआत में कम मुनाफा हो। लेकिन यदि आप ग्राहकों को अच्छे प्रोडक्ट देंगे तो आगे चलकर आपका यह हानि लाभ में बदल सकता है और प्रोडक्ट और पैकेजिंग अच्छी होने पर ग्राहक खुद ही आपके प्रोडक्ट की मार्केटिंग अन्य लोगों तक करेंगे।

ऑनलाइन पेमेंट मेथड का प्रयोग

क्योंकि आज का समय इंटरनेट का है और आज ज्यादातर चीजें लोग ऑनलाइन करना पसंद करते हैं। हालांकि आज पैसे का लेनदेन भी लोग से ज्यादा ऑनलाइन करते हैं और यह सुरक्षित भी होता है। इसलिए भले ही आप एक छोटा गृह उद्योग शुरू कर रहे हैं फिर भी एडवांस टेक्नोलॉजी को जरूर अपनाएं। ग्राहको को प्रोडक्ट के भुगतान के लिए यूपीआई की सुविधा जरूर दें।

बहुत बार ऐसा होता है कि ग्राहक को ज्यादा सामान लेना होता है। लेकिन उनके पास केस कम होता है ऐसी स्थिति में वे उन सामानों को नहीं खरीदते हैं। लेकिन यदि आप उन्हें ऑनलाइन पेमेंट करने की सुविधा देंगे तो वे आसानी से बिना कैश पेमेंट की चिंता किए प्रोडक्ट खरीद पाएंगे।

व्यवसाय को प्रमोट करें

अपने व्यवसाय में तेजी लाने के लिए आपको उसका प्रचार प्रसार करवाना पड़ेगा। क्योंकि बिना एडवर्टाइजमेंट के लोगों को आपके व्यवसाय के बारे में पता नहीं चलेगा। वैसे भी आज सोशल मीडिया का समय है। आप बहुत आसानी से और फ्री में भी अपने व्यवसाय को प्रमोट करवा सकते हैं।

यदि आप कुछ इन्वेस्टमेंट करते हैं तब आप किसी बड़े सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर से अपने प्रोडक्ट का एडवर्टाइजमेंट करवा सकते हैं और यदि आपका बजट कम है तो आप खुद ही अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने प्रोडक्ट और अपने बिजनेस से संबंधित तस्वीरें अपलोड कर सकते हैं। इससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को आपके व्यवसाय के बारे में पता चलेगा और वे आपसे कांटेक्ट कर पाएंगे।

होम डिलीवरी की सुविधा

आप अपने व्यवसाय में डिलीवरी की सुविधा जरूर रखें। चाहे आप किसी भी प्रकार का प्रोडक्ट बना रहे हो। आज के समय में ज्यादातर लोग व्यस्त रहते हैं और वे घर पर ही अपने आर्डर को प्राप्त करना पसंद करते हैं। ऐसे में यदि आप होम डिलीवरी का ऑप्शन होने देते हैं तो ज्यादा से ज्यादा ग्राहक के जुड़ने के चांस होते हैं।

इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना, आप खुद की एक वेबसाइट बना सकते हैं, जो कि व्यवसाय से संबंधित होगा। वहां पर लोग जाकर आपके प्रोडक्ट का आर्डर कर पाएंगे। हालांकि होम डिलीवरी की सुविधा देने के लिए आपको कुछ स्टाफ को भी नियुक्त करना पड़ेगा लेकिन इससे आपका व्यवसाय बहुत तेजी से विकसित होता है।

यदि आपके पास ज्यादा समय नहीं है तो अपने वेबसाइट को ऑपरेट करने के लिए भी किसी जानकार को नियुक्त कर सकते हैं और यदि आपके पास समय है और आपको उसके बारे में नॉलेज है तो आप खुद ही अपनी वेबसाइट रन कर सकते हैं।

ज्यादा समय तक खुला रखें

जब आप शुरुआत में किसी भी प्रोडक्ट की दुकान खोलते हैं तो शुरुआत में अपने व्यवसाय में तेजी लाने के लिए दुकान को ज्यादा समय तक के लिए खुला रखें। हालांकि जब आपका व्यवसाय अच्छे से चलने लगे तब आप एक समय निर्धारित कर सकते हैं और उसी के अनुसार अपनी दुकान को खोल और बंद कर सकते हैं। लेकिन शुरुआत में आप जितनी देर तक दुकान खोल कर रखेंगे उतनी ही बिक्री होगी। क्योंकि किसी चीज की आवश्यकता लोगों को कभी भी पढ़ सकती हैं।

FAQ

गृह उद्योग क्या होता है?

अधिकतम एक करोड़ की लागत में शुरू किये जाने वाले व्यवसाय को गृह उद्योग कहते हैं।

गृह उद्योग शुरू करने की लागत क्या होती है?

गृह उद्योग को अधिकतम एक करोड़ की लागत में शुरू किया जा सकता है।

गृह उद्योग में कितना मुनाफा होता है?

गृह उद्योग में शुरुआत में 30 से 40 हजार प्रतिमाह कमा सकते हैं। बाजार में अच्छी तरीके से व्यवसाय व्यवस्थित हो जाने के बाद और ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने आपको गृह उद्योग किस तरह शुरू करें (Gruh Udyog Kaise Shuru Kare) उससे संबंधित जानकारी दी। हमें उम्मीद है कि यह लेख आपको खुद का गृह उद्योग शुरू करने में मदद करेगा। यदि लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए अन्य लोगों में जरुर शेयर करें। लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव हो तो कमेंट में लिख कर पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़े

बारह महीने चलने वाला बिजनेस आइडियाज

गांव में कौन सा बिजनेस करें?

बिना पैसे लगाए बिजनेस कैसे शुरू करें?

कुटीर उद्योग कैसे शुरू करें?

Leave a Comment

1 thought on “गृह उद्योग कैसे शुरू करें? (प्रक्रिया और लाभ)”